अटल बिहारी वाजपेयी की प्रतिमा को लेकर गोपाल शेट्टी ने खेल मंत्री सुनील केदार को लिखा पत्र, अनुमति नहीं मिली तो देंगे धरना

मुंबई

न्यूज़ स्टैंड18 डेस्क
मुंबई। महाविकास अघाड़ी सरकार के खेल मंत्री सुनील केदार को सोमवार को भारतरत्न श्री अटल बिहारी वाजपेई की पूर्णाकृति प्रतिमा स्थापित करने के लिए प्रकल्प स्वप्नदृष्टा गोपाल शेट्टी द्वारा अनुमति के लिए एक पत्र भेजा गया है।
उत्तर मुंबई भाजपा की प्रचार प्रमुख नीला सोनी राठोड ने मीडिया को बताया है कि, पूर्व प्रधान मंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी की एक पूर्ण आकार की प्रतिमा का अनावरण 25 दिसंबर को उनके जन्मजयंती के अवसर पर किया जाना था। सांसद गोपाल शेट्टी ने सभी अनुमतियों के लिए कई पत्र लिखे, संबंधित विभागों को आवश्यक दस्तावेजों से अवगत कराया। सभी अनुमतियां प्रदान की गई हैं और प्रतिमा अनावरण दिन की पूर्व संध्या पर यानी 24 दिसंबर को सुनील केदार ने अनुमति देने से इनकार कर दिया।
उन्होंने ने बताया कि, 24 दिसंबर को मुख्यमंत्री एवं वर्तमान विपक्ष के नेता देवेन्द्र फडणवीस एवं विधायक मनीषा चौधरी ने सुनील केदार से विधान भवन में दो बार मुलाकात कर अनुरोध किया परन्तु परिणाम ज्ञात हुआ कि मविआ सरकार के मंत्री श्री केदार ने अनुमति देने से इन्कार कर दिया।
तमाम पत्राचार के बाद प्रत्यक्ष श्री शेट्टी ने खेलमंत्री से मुलाकात की, तत्पश्चात पूर्व मुख्यमंत्री वर्तमान विरोधी पक्षनेता देवेंद्र फडणवीस ने और विधायिका मनिषा चौधरी जी ने 24 दिसंबर को दो दफा विधानभवन कार्यालय में भी सुनील केदार से मिलकर विनंती की, परंतु परिणाम जगजाहीर है।
सांसद गोपाल शेट्टी ने आज के पत्र में उल्लेख किया है कि 22 दिसंबर को एमएसडी कलेक्टर ने मंत्री श्री केदार को एक स्मरण पत्र भी भेजा है। लेकिन तथ्य यह है कि प्रतिमा के अनावरण की अनुमति नहीं दी गई थी।
सांसद शेट्टी ने बड़े ही व्यथित भाव से कहा है कि वह पूर्व प्रधानमंत्री भारतरत्न अटल बिहारी वाजपेयी की पूर्णाकृति प्रतिमा के लिए कोई राजनीतिक आंदोलन या राजनीतिक मुद्दा शुरू नहीं करेंगे, लेकिन आज एक पत्र भेजकर अनुमति का विवरण दिया है। उन्होंने कहा है कि आज तक खेल मंत्री श्री केदार की तरफ से कोई लिखित पत्र नहीं मिला। 28 दिसंबर तक कानूनी अनुमति आप दें वरन मैं इस विषय को लेकर आपके बंगले के सामने उपवास धरना रखने के लिए बैठ सकता हूं। ऐसा भी सांसद श्री शेट्टी ने अपने पत्र के अंत में लिखा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.