असदुद्दीन ओवैसी भी जातिगत जनगणना के पक्ष में

राष्ट्रीय

न्यूज़ स्टैंड18 डेस्क
मुंबई।
AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी भी जातिगत जनगणना के पक्ष में बयान दिया है। उनका कहना है कि, जातिगत जनगणना करने की ज़रूरत है। जो हर तरह से पिछड़े हैं उनकी जनगणना और जरूरी है। इसमें ग़लत क्या है। हर राजनीतिक पार्टी ये कह रही है कि जातिगत जनगणना होनी चाहिए।
असदुद्दीन ओवैसी उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत कल्याण सिंह नाम पर रोड के नामकरण पर कहा है कि, क्या-क्या नाम बदल दिए। इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किए। उत्तर प्रदेश के 37 लाख बेरोज़गार नौजवानों के नाम अनइंप्लॉयमेंट पोर्टल पर हैं। नाम से ज्यादा काम करिए।
ज्ञात हो कि ओवैसी पिछले कुछ समय से उत्तर प्रदेश की राजनीति में कुछ ज्यादा ही सक्रिय नजर आ रहे हैं। अगले साल उत्तर प्रदेश में विधानसभा में चुनाव है, जिसमे ओवैसी की पार्टी भी मैदान में उतर रही है। ओवैसी की नजर प्रदेश के करीब 19 प्रतिशत मुस्लिम वोट पर है। उनकी लड़ाई का सबसे ज्यादा फायदा भाजपा को होगा। नुकसान की बात करें तो इसमें समाजवादी पार्टी को भारी छती उठानी पड़ेगी। अगर उत्तर प्रदेश का मुसलमान ओवैसी की ओर डायवर्ट होता है तो समझो अखिलेश यादव की पार्टी सपा का पूरा सफाया हो जाएगा। क्योंकि गैर यादव OBC पहले ही अखिलेश का साथ छोड़ चुका है और मुसलमान के कन्नी काटने के बाद सपा की ज्यादा खराब हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.