उत्तर प्रदेश में एकला चलो की राह पर अपना दल, अपने दम पर लड़ेगी विधानसभा चुनाव

उत्तर प्रदेश राजनीति

विजय यादव
वाराणसी। उत्तर प्रदेश में अपना दल एकला चलो की राह पर है। पार्टी सूत्रों के अनुशार अगला विधानसभा चुनाव अपना दल अपने अकेले के बूते पर लड़ सकती है। पिछले कुछ समय से राज्य में भाजपा की छवि लगातार खराब हो रही है। संभवतः दल की प्रमुख अनुप्रिया पटेल समाजवादी पार्टी का विकल्प बन सकती है। अखिलेश यादव राज्य में भाजपा की बिगड़ते हालात का भी लाभ लेने मे सक्षम नहीं है। दूसरी ओर मायावती लगातार अपना वोट बैंक खोती जा रही हैं। ऐसे में राज्य के पिछड़े वर्ग की नजर अपना दल पर टिकी है।
उत्तर प्रदेश में भाजपा के बहुमत में आने की वजह से अपने सहयोगी छोटे दलों के कार्यकर्ताओं को कोई अहमियत नहीं दी जा रही है इसी वजह से छोटे दलों के कार्यकर्ता नाराज हैं। इस बात की खुलकर नाराजगी भी व्यक्त की जा चुकी है। 2014 से अपना दल (एस ) यानि की अनुप्रिया पटेल भाजपा के साथ हैं, लेकिन जब वे 2014 में भाजपा के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ी थीं, तो उन्हें लोकसभा की दो सीटों पर जीत हासिल हुई थी। शायद इसीलिए केंद्र में उन्हें मोदी मंत्रिमंडल में स्थान भी दिया गया था 2014 में अनुप्रिया पटेल को केंद्रीय राज्य मंत्री बनाया गया था। लेकिन जब 2019 में लोकसभा के चुनाव हुए तो उसमें भी अनुप्रिया पटेल मिर्जापुर से लोकसभा की चुनाव जीतीं लेकिन इस बार उन्हें मोदी मंत्रिमंडल में कोई स्थान नहीं दिया गया। अपना दल की सर्वेसर्वा अनुप्रिया पटेल मोदी के इस निर्णय पर निराश जरूर हुईं लेकिन उन्होंने इसे खुलकर व्यक्त नहीं किया उन्हें इस बात की उम्मीद थी कि देर सवेर उन्हें मंत्रिमंडल में शामिल जरूर किया जाएगा ? लेकिन अभी तक उनकी यह उम्मीद पूरी नहीं है जबकि अनुप्रिया पटेल के समर्थक लगातार  इस बात की मांग कर रहें हैं कि उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने मंत्रिमंडल में स्थान दें , लेकिन कार्यकर्त्ता भी अभी तक निराश ही हैं। 
जिस समय लोकसभा के चुनाव होने वाले थे उस समय अपना दल के नेता आशीष पटेल ने भी इस बात की शिकायत कर नाराजगी व्यक्त की थी भाजपा के वरिष्ठ नेता अपना दल के कार्यकर्ताओं को तवज्जों न देते हुए उन्हें उपेक्षित कर रहें हैं ख़ैर ! उस समय दोनों दलों के नेताओं के बीच समझौता हो गया था क्योंकि अपना दल के नेताओं को पूरा विश्वास था कि यदि केंद्र में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनेगी तो इस बार अनुप्रिया पटेल को कैबिनेट मंत्री जरूर बनाया जायेगा लेकिन अनुप्रिया पटेल और आशीष पटेल तथा कार्यकर्ताओं की उम्मीदों पर उस समय पानी फिर गया जब उन्हें मंत्रिमंडल में कोई स्थान नहीं दिया गया। 
अब 2022 में उत्तर प्रदेश विधानसभा के चुनाव होने वाले हैं इसीलिए अपना दल के समर्थकों को एक बार फिर से उम्मीद जगी है कि हो सकता है कि उत्तर प्रदेश में कुर्मी समाज का वोट हासिल करने के लिए अनुप्रिया पटेल को केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह दे दी जाए। अनुप्रिया पटेल के समर्थक तथा महाराष्ट्र अपना दल (एस ) के प्रभारी महेंद्र वर्मा का कहना है कि उत्तर प्रदेश में कुर्मी समाज का वोट कई सीटों पर निर्णायक है हालांकि उत्तर प्रदेश में अभी अपना दल (एस ) के 9 विधायक है और पार्टी भाजपा को समर्थन करती है। महेंद्र वर्मा का कहना है कि पिछले दिनों उत्तर प्रदेश में जो ग्राम पंचायत के चुनाव हुए उसमें अपना दल को समर्थन करने वाले लोग जिन जगहों पर नहीं जीतें हैं वे लोग दूसरे नंबर हैं। महेंद्र वर्मा का मनना है कि उत्तर प्रदेश में कुर्मी मतदाता एकजुट हुआ है और पूरी तरह से अनुप्रिया पटेल के साथ है। 
अपना दल के कार्यकर्त्ता भी इस बात को मानकर चल रहें कि यदि अनुप्रिया पटेल को केंद्रीय मंत्रिमंडल में स्थान दिया जाना चाहिए इसके आलावा उत्तर प्रदेश में सीटों का बटवारा भी सही तरीके से किया जाना चाहिए यदि भाजपा कुर्मी समाज को उपेक्षित नहीं करेगी तब तो कुर्मी समाज भाजपा के साथ रहेगा अन्यथा वह अपना अलग रास्ता खुद बना लेगा। 
उत्तर प्रदेश की राजनीति से जुड़े लोगों का कहना है कि उत्तर प्रदेश में फ़िलहाल भाजपा की सरकार है वह भी पूर्ण बहुमत के साथ। कोरोना की महामारी के समय के कामकाज को यदि छोड़ दिया जाय तो योगी आदित्यनाथ के कार्यकाल में भाजपा ने अच्छा काम किया है इसलिए भाजपाइयों को पूरा विश्वास है कि उत्तर प्रदेश में उन्हें फिर से सत्ता में आने के लिए अधिक परिश्रम नहीं करना पड़ेगा। 
उधर अपना दल (एस ) के नेताओं ने इन्हीं संभावनाओं को देखते हुए विधानसभा चुनाव को लेकर रणनीति बनानी शुरू कर दी है। पार्टी इस बात के पुरे प्रयास कर रही है कि यदि पार्टी अपने अकेले दम पर चुनाव लड़ती हैं तो पार्टी का प्रदर्शन अच्छा रहें इसीलिए अब कुर्मी समाज के साथ साथ अन्य समाज के लोगों को भी साथ में लेने के प्रयास किये जा रहें हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.