उत्तर भारतीय समाज की पिछड़ी जातियों को महाराष्ट्र ओबीसी मे शामिल करने की सिफारिश

मुंबई राष्ट्रीय

न्यूज़ स्टैंड18 नेटवर्क
मुंबई।
ओबीसी मंत्री विजय वडेट्टीवार के मंत्रालय के कार्यालय में उत्तर भारत से आये मुंबई और महाराष्ट्र के अलग अलग जिल्हा मे रह रहे ओबीसी मे शामिल पाल समाज, विश्वकर्मा समाज, मौर्य-कुशवाहा समाज, कुर्मी-पटेल समाज, यादव समाज, राजभर समाज, चौरसिया समाज, प्रजापति समाज, गुप्ता-तेली समाज, शर्मा-नाई समाज, सुवर्णकार-सोनार समाज और लोधी समाज जैसे विभिन्न जातीओ को महाराष्ट्र के ओबीसी लिस्ट में शामिल करने के लिए पिछडा आयोग को प्रस्ताव भेजने का फैसला हुआ।
उत्तर भारतीय ओबीसी समाज मे शामिल विभिन्न जातीया जो की केंद्रीय ओबीसी लिस्ट में शामिल है। उनको महाराष्ट्र मे किसी भी प्रकार की सुविधा नही मिल रही है। उन जातियों को महाराष्ट्र की ओबीसी जाती मे शामिल किया जाये यह मांग उत्तर भारतीय समाज के पिछड़ी जाती के लोग कई सालो से कर रहे थे।
इसी विषय पर मंत्रालय मे राज्य के ओबीसी मंत्री विजय वडेट्टीवार की अध्यक्षता मे एक उच्चस्तरीय बैठक हुई। इस बैठक मे पूर्व मंत्री और महाराष्ट्र प्रदेश काँग्रेस कमिटी के कार्याध्यक्ष मो आरिफ (नसीम) खान, उमाकांत अग्निहोत्री, डॉ. बाबूलाल सिंह, मुंबई एनएसयुआय अध्यक्ष प्रदुम्न यादव, मुंबई कांग्रेस महासचिव ओबीसी विभाग के रामप्रकाश यादव, डॉ उत्तम सिंह, अनिल राजभर, विनोद गुप्ता, संतोष विश्वकर्मा, रामजी बिंद, रामलखन पाल, नरेंद्रकुमार सिंह, अशोक शर्मा, रामनरेश यादव, राजेश पाल, शैलेश चौरसिया, समरबहादुर पटेल, धर्मराज प्रजापति, छोटेलाल शर्मा, आदि समाज के प्रमुख नेताओ के साथ ओबीसी विभाग और मागासवर्गीय विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे
नसीम खान ने मांग की है की, उत्तर भारत से आये हुए ओबीसी के विभिन्न जातियों को महाराष्ट्र के ओबीसी लिस्ट मे शामिल करना चाहिए ताकि इस समाज को भी महाराष्ट्र की मुख्य धारा मे जोडा जा सके। इसपर मंत्री विजय वडेट्टीवार ने अधिकारियों को तुरंत उत्तर भारतीय समाज के ओबीसी मे शामिल विभिन्न जातियों को महाराष्ट्र के ओबीसी लिस्ट में शामिल करने का प्रस्ताव पिछडा आयोग को भेजने का आदेश दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.