कांदिवली की बड़ी झोपड़पट्टी क्रांतिनगर भी कोरोना की चपेट मे

मुंबई

-चाचा भतीजा पाए गए संक्रमित

-चार दिन पहले ही सील हो चुका था इलाका 

मुंबई. कांदिवली (पूर्व) की बड़ी झोपड़पट्टी क्रांतिनगर मे भी कोरोना ने पैर पसार दिया है। गुरुवार को एक ही परिवार के दो सदस्य कोविड-19 पोजिटिव पाये गये। इसके बाद पुलिस व मनपा ने पुरे इलाके को सील कर दिया है। क्रांतिनगर की हर गली मे बाजार है। धारावी की तरह यहां भी लोग कॉमन शौचालय का उपयोग करते हैं, इसलिए यहां कोरोना पोजिटिव का मिलना अच्छा संकेत नही है। 

अच्छी खबर यह है कि कुरार विलेज के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक बाबा साहेब सालुंखे ने 4 दिन पहले ही सतर्कता दिखाते हुये यहां के भाजी मार्केट को बंद करा दिया था। अन्यथा 2 से 200 संक्रमित होने में देर नही लगती। शाम के समय यहां के सब्जी बाजार मे पैदल चलना मुश्किल होता है। 

जिन दो लोगों को पोजिटिव पाया गया है वे यहां के महात्मा गांधी चाल सोसाइटी में रहते हैं। दोनो एकही परिवार के हैं। 24 वर्षीय चाचा और 9 वर्षीय भतीजे का समावेश है। यह चाचा-भतीजा एक साथ रहते है।  इनके साथ परिवार के अन्य सदस्य भी रहते थे। चाचा ऑनलाइन मार्केटिंग का काम करता है। 15 अप्रेल से जब कंपनी में काम शुरू हुआ था तबसे चाचा काम पर जाना शुरू किया था उसी दौरान कंपनी के बॉस को कोरोना पॉजिटिव पाया गया था, जिसके बाद इस शख्स का भी चेकअप किया गया। उसके बाद घर मे 9 वर्षीय भतीजे की तबियत बिगड़ने के बाद जांच किया गया।

भतीजे की तबियत बिगड़ने के बाद जब मनपा स्वास्थ्य अधिकारी को जानकारी दी गई। इसके बाद गुरुवार दोपहर करीब 12 बजे दोनों को शताब्दी हॉस्पिटल ले जाया गया। वही आसपास के करीब 7 लोगो को घर मे ही कोरंटिन कर दिया गया है। कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद पूरे इलाके में सन्नाटा छा गया है।

इस ख़बर की जानकारी देते हुए कुरार सीनियर बाबा सालुंखे ने बताया कि कांदिवली आर साउथ विभाग की झोपड़पट्टी दामू नगर और गौतम नगर में कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के बाद भी जब क्रांति नगर में लोग मनमानी घुम रहे रहे थे उसी को ध्यान में रखते हुए हमने पूरे क्रांतिनगर मार्केट को एहतियातन सील कर दिया था। जिससे यहां भीड़ खत्म हो गई थी। लेकिन आज 2 कोरोना मरीजों के मिलने के बाद पूरे इलाके में गहरी नज़र रही जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.