कोरोना की तीसरी लहर का खतरा झोपड़पट्टियों मे ज्यादा होने की संभावना

मुंबई

न्यूज़ स्टैंड18 डेस्क
मुंबई। अनुमान लगाया जा रहा है कि, तीसरी लहर का खतरा कोरोना की पहली लहर की तरह घनी आबादी वाली झुग्गियों में ज्यादा फैल सकता है। बच्चों में तीसरी लहर का उच्च जोखिम हो सकता है। 20 से 40 वर्ष की आयु के सदस्यों के प्रभावित होने की संभावना अधिक है।
कोरोना टास्क फोर्स ने बुधवार को मुख्यमंत्री के साथ बैठक कर इस बात पर चर्चा किया कि, राज्य में तीसरी लहर के मद्देनजर क्या तैयारी की जाए।
पहली लहर में धारावी में सबसे ज्यादा प्रकोप था, लेकिन दूसरी लहर में संक्रमण की दर अपेक्षाकृत कम थी। सर्वे से इन इलाकों में एंटीबॉडी की मात्रा का पता लगाया जा सकता है। इसलिए जरूरी है कि इस क्षेत्र में टीकाकरण बढ़ाया जाए।
अनुमान है कि, तीसरी लहर की संख्या पहली लहर के समान या थोड़ी अधिक होगी। सक्रिय रोगियों की संख्या आठ लाख तक पहुंचने की उम्मीद नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.