रागों की सकारात्मक ऊर्जा के सारथी हैं म्युज़िक डायरेक्टर – सिंगर शिवराम 

मनोरंजन

( सिंगर-म्युज़िक डायरेक्टर शिवराम परमार से अमित मिश्रा की बातचीत )

शिवराम परमार का नाम आज बॉलीवुड और म्युज़िक एलबम इंडस्ट्री में सम्मान के साथ लिया जाता है. पंडित नरेंद्र शर्मा और अनिल बिस्वास जैसे दिग्गजों के साथ काम कर चुके शिवराम ने करीब तीन हजार गानों की धुन बनाई है बल्कि दर्जनों अलबमों-फिल्मों में संगीत देकर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है. वे अच्छे सिंगर भी हैं और एक अच्छे इंसान भी. प्रस्तुत है उनसे हुई बातचीत के प्रमुख अंश…

कुछ आप अपने बारे में बताइए शिवराम जी ?

मेरा जन्म गुजरात के राजपिपला गांव में हुआ. मेरे माता-पिता दोनों शिक्षक है. घर में हमेशा भक्ति भाव तथा भजन का माहौल रहा है. मेरे पिताजी को अब्दुल कलाम जी के हाथों से सर्वश्रेष्ठ शिक्षक का राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त हुआ है. मेरे घर में स्वाध्याय का माहौल रहा , पिताजी भाई लाल भाई परमार स्वाध्याय तथा भजन के दौरान हारमोनियम बजाते थे. तब मैं भी हारमोनियम बजाने की कोशिश करते-करते सीख गया. रात को सोते समय रेडियो पर पुराने गाने सुनता और 13-14 साल की उम्र से ही मैंने मन ही मन यह तय कर लिया था कि एक दिन मुंबई जाकर संगीतकार बनूँगा. मेरी मेहनत व संघर्ष रंग लाया और आज नतीजा आपके सामने है.

संगीत का सफर कैसे शुरू हुआ था ?

स्कूल की पढ़ाई के बाद मैंने बरोड़ा जाकर म्युज़िक कॉलेज में अपना ग्रेजुएशन पूरा किया. राजपिपला की महारानी रुकमणी देवी और मेरे स्कूल के प्रिंसिपल दिनशा घम्मिर जी के प्रोत्साहन से कॉलेज के बाद पुणे जा कर माणिकबुआ ठाकुर दास और आशावरी पटवर्धन से गुरु शिष्य परंपरा के तहत मैंने संगीत की तालीम ली. उसके बाद मुंबई आकर पंडित नरेंद्र शर्मा और अनिल विश्वास जी के साथ करीब ३००० से भी ज्यादा  गानों की धुन बनाई.

मुंबई में आकर क्या आपको कुछ चुनौतियों का सामना करना पड़ा?

जब मैं पहली बार मुंबई आया तो विरार से काफी दूर एक खंडहर जैसी जगह थी जहां मैं रहता था. मुंबई में पैसा कमाने के लिए शुरू में मैंने लोगों को संगीत सिखाना शुरू किया. जिस दिन क्लास नहीं होते उस दिन फिल्मी लोगों से जाकर मिलता व काम मांगता था . यह सिलसिला तकरीबन 3-4 साल चला. रोज विरार से चर्चगेट मुंबई की लोकल ट्रेन में दो डिब्बों के बीच बैठकर सफर करता. चुनौतियां काफी आई पर हर रात सोने से पहले अपने आप से यही कहता कि हार के वापस राजपिपला नहीं जाऊंगा. 

म्युज़िक डायरेक्टर के तौर पर आपको कैसे ब्रेक मिला?

सात-आठ सालों तक कई बड़ी म्युज़िक कंपनिओंऔर स्टूडियोज़ में एक असिस्टेंट के तौर पर काम किया और सीखा. शुरू में सभी प्रोजेक्ट में एक असिस्टेंट के तौर पर ही काम किया था लेकिन 2010 के बाद मुझे अपने काम की वजह से साइन किया जाने लगा. बतौर म्युज़िक डायरेक्टर मेरी पहली हिंदी फिल्म लेडीस फर्स्ट थी जो इतनी चली नहीं लेकिन उसका संगीत पसंद किया गया. उसके बाद कई प्रोजेक्ट मिलना शुरू हुए. 

आपके संगीत के सफर में अब तक आपने कितना काम किया है?

मेरे हिसाब से अब तक मैंने जो काम किया है उससे कई ज्यादा मुझे काम करना है. मेरे सफर की यह पहली सीढ़ी पर मैं खड़ा हूं और मुझे काफी दूर जाना है. मेरे सफर की बात करें तो 2015 में मैंने अपना खुद का स्टूडियो “ShivAmee Music Factory” अंधेरी में खोला और तकरीबन तीन से चार फिल्में और 15 से 20 एल्बम में अपना संगीत दिया . मेरी हिंदी फिल्म ” टर्निंग प्वाइंट ” का संगीत काफी लोकप्रिय हुआ. जावेद अली ,पलक मुच्छल ,अलका याग्निक, साधना सरगम ,अनुराधा पौडवाल ,कुमार सानू ,विनोद राठौड़ करसन सागठीया ओसमान मीर व उदित नारायण जैसे लोकप्रिय गायकों के साथ काफी काम किया है.कुछ मारवाड़ी भोजपुरी फिल्मों में भी संगीत परोसा है.

सुना है आप सरकारी काम भी काफी करते हैं

जी जब भी मौका मिले देश के लिए सरकार के लिए कुछ ना कुछ करने की कोशिश करता हूं. 2014 में विधानसभा चुनाव में हमारे माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के लिए काफी गाने बनाए जो चुनावी अभियान में उपयोग में लिए गए. उनमें से मोदी वर्सेस ओबामा काफी हिट हुआ. Statue of unity का थीम सॉन्ग “सरदार वल्लभ भाई पटेल” भी बनाया है जो काफी लोकप्रिय हुआ है. 

अपने भविष्य के काम के बारे में भी कुछ बताइए ?

फिलहाल मैं पद्मश्री डॉ सोमा घोष के साथ मिलकर कुछ बड़ी फिल्मों और कुछ गजल एल्बमों अपना संगीत दे रहा हूं. 1-2 फिल्में फिलहाल ऑन लोकेशन शूट पर हैं.

आजकल के दौर के संगीत के बारे में आपका क्या ख्याल है?

आजकल के संगीत को लेकर मैं कई बार निराश हो जाता हूं. हम पश्चिमी संगीत में डूबते जा रहे हैं जो गलत नहीं है लेकिन मेरा मानना है के भारतीय संगीत अपनी छवि भारत में खो रहा है और मै उसी संगीत को भारतीय लोगों में फिर से बिखेर ना चाहता हूं. हमारे संगीत में जो रूह है जो सुकून है वह किसी भी देश के संगीत में नहीं है. यह बात हमें भूलनी नहीं चाहिए.

आप इस lockdown के दरमियान क्या कर रहे हैं?

इस lockdown में 22 मार्च से रोजाना रात 8:00 बजे अपने फेसबुक पर लाइव जाकर लोगों को एंटरटेन करने की कोशिश कर रहा हूं.  40 दिन से भी अधिक रोज एक नए राग के साथ उनकी कुछ जानकारियों के साथ दर्शकों को भारतीय संगीत के बारे में कुछ दुर्लभ बातें बताते आ रहा हूं. मेरे हिसाब से यह ऐसे कठिन समय में सकारात्मक ऊर्जा देने का एक जरिया है.

आपके हिसाब से एक संगीतकार का क्या कर्तव्य है ?

राग-रागीनियों और शास्त्रीय प्रतिभा से पूर्ण संगीत जो हमारे भारत का एक अमूल्य खजाना है उसी संगीत को वापस जागृत करना हर एक संगीतकार का कर्तव्य है. इसी सोच के साथ अपने हर एक गाने में वही मेलडी ,वही मिठास और वही अमरता लाने की कोशिश करता हूं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.