पालघर हत्या कांड:-  ड्रायवर की दोनो मासूम बच्चियों को आज भी है पिता का इन्तज़ार  – कहती है ‘पप्पा चॉकलेट लेकर आयेंगे’  

राष्ट्रीय
  • विजय यादव 

मुंबई. पप्पा काम पर गये हैं… अभी मेरे और सानिका के लिये चॉकलेट लेकर आयेंगे… यह मासूमियत भरी आवाज 5 साल की उस शालिनी की है, जिसके पिता को भीड़ के झुंड ने पीट पीट कर मार डाला। पिता निलेश तेलगडे पिछले गुरुवार को कांदिवली से दो संतों को लेकर गुजरात जा रहे थे, रास्ते मे पालघर के गड़चिनचले गांव मे एक झुंड ने अचानक हमला कर उनकी हत्या कर दी। इस हमले मे दोनो साधु भी मारे गये। 

निलेश दो भाईयों मे सबसे बड़ा था, परिवार की पूरी जिम्मेदारी उसी पर थी। उसकी मौत के बाद पत्नी पूजा और मां का रो रो कर बुरा हाल है। पति के मौत की पीड़ा के साथ-साथ अब इन दो छोटी बच्चियों की भी चिंता सताने लगी है। पिछले पांच दिनो मे उसकी आंखों मे इतने आंसू भी नही बचे हैं कि वह रो सके। हालांकि एक टक ताकती उसकी पथरायी आंखे वेदना का खुद बयान कर देती हैं। 

10 बाय 10 फिट के छोटे से कमरे मे निलेश की पत्नी, दो बच्चियों के साथ मां और एक छोटा भाई भी रहता है। 

कांदिवली, गंगानगर की झोपड़पट्टी मे संकरी गलियों के बीच उसके घर के खाली बर्तन बता रहे थे कि यहां सब कुछ ठीक नही है। 

पूजा कहती है अब मै क्या करुँ। मेरा पति किसी की बुराई करने तो नही गया था, वह तो महाराजजी को लेकर उनके गुरु के अंतिम संस्कार के लिये जा रहा था। क्या कसूर था उनका जो लोगों ने पीट पीट कर मार दिया। निलेश का छोटा भाई जयेश कहता है, हम लोग तो अब बेसहार हो गये। अब कौन हमारी जरूरते पूरी करेगा? शालिनी और सानिका अब किसे पापा कहकर बुलाएंगी। अब कौन इनके लिये कपड़े लाएगा। 

निलेश आश्रम से महज 100 मीटर की दूरी पर ही रहता था। वह सुशील गिरी के बगल मे ही एक मोटर सर्विस कंपनी मे ड्रायवर का काम करता था। निलेश की पहले से ही सुशील गिरी से संबंध था, वह जानते थे कि वह एक अच्छा चालक है। लेकिन उस दिन वह अपने को योग्य सारथी साबित नही कर सका। 

आश्रम की गायें भी बहा रही हैं आंसू

सुशील गिरी के आश्रम मे तीन गाय है, जो खूँटे बंधी हर आने जाने वाले को निहारती रहती है। पास के एक व्यक्ति ने बताया महाराज जी रोजना सुबह-सुबह खुद इन्हे चारा डालते थे। अब उनकी जगह दुसरे को देखकर बार- बार रंभाती हैं। शायद इन्हे भी अपने मालिक के जाने का उतना ही दुख है जितना उनके परिजनों को। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.