आज़मखेड़ा होकर जायेगी गंजमुरादाबाद से बरौंकी तक बनने वाली 5 करोड़ की सड़क

उत्तर प्रदेश समाचार

रईस खान
उन्नाव (उत्तर प्रदेश)
। उप्र के जिला उन्नाव की तहसील बांगरमऊ के गंजमुरादाबाद ब्लाक में हरदोई-उन्नाव मार्ग से बरौंकी वाया आज़मखेड़ा मार्ग का निर्माण कार्य प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत एफडीआर तकनीक से इस इलाके में पहली सड़क का निर्माण कार्य शुरू हो गया है।

गांवों को मुख्य सड़कों से जोड़ने के क्रम में फुल डेप्थ रिक्लेमेशन (एफडीआर) तकनीक से इस मार्ग का निर्माण कार्य शुक्रवार को शुरू कर दिया गया।

गंजमुरादाबाद रेलवे हॉल्ट के निकट से शुरू होकर एक किलोमीटर दूरी में इस मार्ग का निर्माण कराया गया। इस मार्ग निर्माण में पूरी तरह से आधुनिक मशीनों का इस्तेमाल किया जा रहा है। जिससे यह मार्ग निर्माण लोगो में कौतूहल का विषय बना हुआ है।

मार्ग का निर्माण
गंजमुरादाबाद नगर से गांव कपूर पुर ( टेड़वा), ताजपुर ( मुर्तज़ापुर) , आज़मखेड़ा होते हुए बरौंकी तक (5.75 किलोमीटर का) निर्माण कराया जायेगा। इसके निर्माण में 465.26 लाख रुपए स्वीकृत हुए हैं। ग्रामीण विकास मंत्रालय, भारत सरकार की तरफ से इस सड़क के निर्माण की धनराशि स्वीकृत की गई है।

इसके निर्माण में रूस का केमिकल, सीमेंट, क्रश सैंड आदि का उपयोग किया जाएगा। यह मार्ग पूर्ण रूप से ईकोफ्रेंडली होगा। तीन दिनों तक मार्ग को पानी से तराई की जाएगी। एक दिन के लिए आवागमन भी रोकना पड़ेगा। निर्माण के बाद 10 वर्ष तक मार्ग की लाइफ बनी रहेगी।

एफडीआर तकनीक पूरी तरह से वेस्ट मैनेजमेंट सिस्टम पर आधारित है। इस निर्माण में तारकोल यानी डामर का प्रयोग नहीं होता है। पुरानी सड़क की गिट्टी समेत अन्य चीजों का इस्तेमाल दोबारा सड़क बनाने में किया जा रहा है। इस तकनीक में पुरानी सड़क को अत्याधुनिक मशीनों से तोड़ने के बाद सीमेंट और केमिकल डालकर बिना गिट्टी डाले सड़क बनाई जाती है। सामान्य तरीके से साढ़े पांच मीटर चौड़ी और एक किलोमीटर लंबी सड़क बनाने में 1.30 करोड़ का खर्च आता है जबकि इस तकनीक से सड़क बनाने में मात्र 98 लाख रुपये ही खर्च होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.