Andheri by election: राज ठाकरे के लेटर से मुरजी पटेल की दिक्कतें बढ़ी

मुंबई राजनीति

मुंबई। अंधेरी विधानसभा के उप चुनाव में मनसे प्रमुख के एक पत्र ने भाजपा उम्मीदवार मुरजी पटेल की धड़कने बढ़ा दी है। लगातार प्रचार प्रसार में जुटे मुरजी पटेल के समर्थकों को इस बात की चिंता सताने लगी है कि, कहीं पार्टी ने राज ठाकरे के निवेदन को स्वीकार कर लिया तो उम्मीदवारी वापस लेनी पड़ सकती है। आज (सोमवार) नामांकन वापस लेने की आखिरी तारीख है। अगर आज नामांकन वापस लेने के समय से पहले भाजपा हाईकमान की ओर से कोई निर्णय नही आया तो समझो मुरजी पटेल मैदान में डटे रहेंगे।
अंधेरी उपचुनाव में जहां शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) और भारतीय जनता पार्टी के बीच कड़ी टक्कर के संकेत मिल रहे हैं, वहीं अब इस उपचुनाव को निर्विरोध बनाने की चर्चा चल रही है। एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार और मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने रविवार को निर्विरोध चुनाव कराने की अपील की है। उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने स्पष्ट किया कि पार्टी नेतृत्व और मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के साथ राज ठाकरे के पत्र पर चर्चा करने के बाद ही अंतिम निर्णय लिया जाएगा। इस सीट पर उपचुनाव के लिए नामांकन पत्र वापस लेने का आज आखिरी दिन है।
राज ठाकरे के इस पत्र पर बीजेपी प्रत्याशी मुर्जी पटेल ने टीवी9 मराठी से बात करते हुए कहा कि, मैंने इसे (पत्र) नहीं देखा है। मैं सुबह से प्रचार कर रहा था। हमारे वरिष्ठ नेता इस बारे में बात करेंगे। मेरे लिए बोलना ठीक नहीं होगा। पटेल ने आगे कहा, मैं अंधेरी का एक छोटा सा कार्यकर्ता हूं। अंधेरी में काम करता हूं। मुझे नहीं पता कि उच्च स्तर पर क्या हो रहा है। इसके अलावा, पटेल ने यह भी विश्वास व्यक्त किया कि इस चुनाव के लिए भाजपा, बालासाहेब की शिवसेना और आठवले की आरपीआई गठबंधन मजबूत है।
अंधेरी पूर्व विधानसभा क्षेत्र उपचुनाव के लिए शनिवार को कुल 14 उम्मीदवारों के नामांकन पत्र वैध पाए गए। मुंबई उपनगरीय जिला कलेक्टर और जिला निर्वाचन अधिकारी निधि चौधरी ने मीडिया को बताया कि शनिवार को जांच के बाद 14 उम्मीदवारों के नामांकन पत्रों का सत्यापन किया गया है। उन्होंने कहा कि सोमवार यानि 17 अक्टूबर 2022 को आवेदन वापस लेने की आखिरी तारीख है।

अंधेरी विधानसभा उप चुनाव के लिए नामांकन भरने वाले उम्मीदवारों के नाम

1- ऋतुजा रमेश लटके (शिवसेना- उद्धव बालासाहेब ठाकरे)

2- मुरजी कानजी पटेल (भारतीय जनता पार्टी)

3- राकेश अरोरा (हिंदुस्थान जनता पार्टी)

4- बाला व्यंकटेश विनायक नाडार (आपकी अपनी पार्टी- पीपल्स)

5- मनोज श्रावण नायक (राईट टू रिकॉल पार्टी)

6- चंदन चतुर्वेदी (निर्दलीय)

7- चंद्रकांत रंभाजी मोटे (निर्दलीय)

8- निकोलस अल्मेडा (निर्दलीय)

9- नीना खेडेकर (निर्दलीय)

10- पहल सिंग धन सिंग आऊजी (निर्दलीय)

11- फरहाना सिराज सय्यद (निर्दलीय)

12- मिलिंद कांबले (निर्दलीय)

13- राजेश त्रिपाठी (निर्दलीय)

14- शाकिब जाफर इमाम मलिक (निर्दलीय)

Leave a Reply

Your email address will not be published.