Ankita Bhandari Murder case: अंकिता का अंतिम संस्कार करने से इनकार, विरोध प्रदर्शन जारी

समाचार

देहरादून। उन्नीस साल की अंकिता भंडारी की हत्या के बाद उत्तराखंड में कई जगहों पर विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। परिवार ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने तक अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया है।
इस हत्याकांड में पीड़िता के परिवार ने सरकार की कार्रवाई पर कई सवाल खड़े किए हैं। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी (Pushkar Singh Dhami) के आदेश के बाद शुक्रवार को पुलकित आर्य (Pulkit aarya) के ‘वनतार’ रिसॉर्ट के एक हिस्से को तोड़ दिया गया। अंकिता इसी रिजॉर्ट में रिसेप्शनिस्ट का काम करती थी। अंकिता के परिवार ने आरोप लगाया है कि उनकी हत्या के सबूत मिटाने के लिए यह कार्रवाई की गई। परिजनों ने पीड़िता का अंतिम संस्कार करने से इंकार कर दिया है।
परिजनों ने निर्णय लिया है कि वे पीड़िता के पोस्टमार्टम की अंतिम रिपोर्ट आने तक अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। प्रारंभिक पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बच्ची की डूबने से मौत होने की बात सामने आई है। यह भी पता चला है कि बच्ची के शरीर पर चोट के निशान हैं। इस बीच प्रशासन परिजनों को पीड़िता का अंतिम संस्कार करने के लिए राजी कर रहा है। यह भी खबर है कि पीड़िता के परिजनों और कुछ स्थानीय लोगों ने श्रीनगर-केदारनाथ राजमार्ग को जाम कर दिया।
उत्तराखंड में बीजेपी के पूर्व नेता विनोद आर्य (Vinod aarya) का बेटा पुलिकट अंकिता भंडारी हत्याकांड का मुख्य आरोपी है। इस मामले में पुलकित अपने दो साथियों के साथ फिलहाल न्यायिक हिरासत में है। यह मामला सामने आते ही भाजपा ने विनोद आर्य की पार्टी से सदस्यता रद्द कर दी। उत्तराखंड में विपक्षी दलों ने भी रिसॉर्ट पर कार्रवाई को लेकर सवाल उठाए हैं। “यह एक सुनियोजित हत्या है। लोगों को संदेह है कि रिसॉर्ट को तोड़ा गया सबूत नष्ट करने के लिए, विपक्षी दलों ने आरोप लगाया है कि पुलिस मामले की धीरे-धीरे जांच कर रही है क्योंकि आरोपियों के सत्तारूढ़ दल से संबंध हैं। मामले की जांच के लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के आदेश के बाद विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया गया है।
इस बीच, हृषिकेश में स्थानीय लोगों ने शनिवार को हुई घटना का कड़ा विरोध किया। न्याय की मांग को लेकर सैकड़ों लोगों ने पुलिस की गाड़ी को घेर लिया। गुस्साए नागरिकों ने पुलकित आर्य के रिसॉर्ट में आग लगा दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.