गुलाम नबी आजाद की राह पर अशोक गहलोत?

समाचार

जयपुर। राजस्थान कांग्रेस में सचिन पायलट गुट और अशोक गहलोत गुट के बीच अंदरूनी कलह अभी भी सुलझ नहीं रही है। मध्य प्रदेश में 2020 में सत्ता परिवर्तन के बाद से ही सचिन पायलट के भाजपा में शामिल होने की जोरदार चर्चा हो रही थी। उसके बाद से देखा गया है कि राजस्थान में सचिन पायलट और अशोक गहलोत के बीच आंतरिक सत्ता संघर्ष बढ़ता ही जा रहा है। हाल ही में सचिन पायलट के समर्थक विधायकों की नाराजगी राजस्थान के साथ-साथ देश भर के राजनीतिक गलियारों में भी चर्चा का विषय बनी थी।
राजस्थान में एक कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अशोक गहलोत की एक-दूसरे की तारीफ करने के बाद सियासी बहस छिड़ गई है। इस संबंध में सचिन पायलट ने एक सांकेतिक बयान दिया है। राजस्थान के बांसवाड़ा जिले के मानगढ़ धाम इलाके में आयोजित एक कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत शामिल हुए थे। इस मौके पर गहलोत ने कहा था, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दुनिया में जहां भी जाते हैं उनका सम्मान होता है। उसके बाद मोदी ने उनकी तारीफ में कहा, अशोक गहलोत और मैंने मुख्यमंत्री के रूप में एक साथ काम किया। वह देश के सबसे उम्रदराज मुख्यमंत्रियों में से एक हैं। इसके अलावा यह एक अनुभवी राजनेता भी हैं।
इस बीच सचिन पायलट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा अशोक गहलोत की सराहना की बात करते हुए एक सांकेतिक बयान दिया है।
पायलट ने कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री की प्रशंसा की। मुझे लगता है कि यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण विकास है। ठीक उसी तरह जैसे प्रधानमंत्री ने संसद में गुलाम नबी आजाद की तारीफ की थी। उसके बाद जो हुआ वह हम सबने देखा। तो खास बात है कि अब प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्री की तारीफ की है। हमें इस घटना को हल्के में नहीं लेना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.