26/11 के बहादुर वीर जिल्लू यादव का निधन

समाचार

वाराणसी। 26/11 के मुंबई हमले के बहादुर वीर जिल्लू यादव ने मंगलवार को अपने गृह जनपद वाराणसी में मंगलवार को आखिरी सांस ली। उनका हृदय गति रुक जाने से निधन हो गया। भारत मां के वीर सिपाही जिल्लूू यादव के निधन की खबर सुन पूरे जिले में मातम छा गया।
26/11 के आतंकी हमले के समय जिल्लू यादव मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनल पर तैनात थे, तभी आतंकी कसाब अपने अन्य साथियों के साथ वहां घुसा और फायरिंग करने लगा। उसी समय RPF की सुरक्षा ड्यूटी में तैनात श्री यादव डंडा फेंककर राइफल की कमान संभाली और आतंकियों से परिसर को खाली करा लिया।
वह मुबई आतंकी हमले को बहादुरी से रोकने वाले पहले सुरक्षा कर्मियों में से एक थे। उनकी बदौलत रेलवे के सैकड़ों यात्रियों की जान बच सकी थी। आज भी उनकी दिलेरी की चर्चा लोगों के जुबान पर है कि कैसे उन्‍होंने
26/11 मुंबई हमलों के दौरान मुंबई में छत्रपति शिवाजी टर्मिनल स्‍टेशन पर तैनात रहे। जिल्‍लू यादव ने हाथ में डंडा फेंककर राइफल थामी और उससे आतंकियों पर फायर झोंक दिया। इसके बाद आतंकवादी वहां से भाग खड़े हुए थे।
राष्ट्रपति के वीरता पदक से सम्मानित गोसाईंपुर- मोहांव निवासी जिल्लू यादव के निधन की खबर मिलते ही क्षेत्रीयजन शोकाकुल हो उठे। अंतिम संस्कार मणिकर्णिका घाट पर किया गया। मुखाग्नि बेटे मनोज कुमार यादव ने दी। आरपीएफ में कांस्टेबल जिल्लू यादव 26/11 2008 को मुंबई में हुए आतंकी हमले में टर्मिनल स्टेशन पर तैनात थे।
उनके पलटवार से बौखलाए आतंकवादियों ने दूसरी ओर से जवाबी फायरिंग भी की लेकिन वह डरे नहीं और आतंकवादियों को स्टेशन परिसर से खदेड़ दिया। उनके इस अदम्‍य साहस के लिए उन्हें राष्ट्रपति पदक से भी सम्मानित किया गया था। इसके साथ ही उनको आउट आफ टर्न प्रमोशन भी मिला था। उनके चार बेटे हैं और सभी को अपने पिता की बहादुरी पर गर्व है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.