बीड के नेता जयदत क्षीरसागर का शिवसेना से हकालपट्टी

मुंबई

न्यूज स्टैंड18 नेटवर्क
मुंबई। एकनाथ शिंदे के बगावत के बाद शिवसेना गद्दारों के प्रति आक्रामक हो गई है। इस कड़ी में पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते बीड जिला के नेता जयदत क्षीरसागर को शिवसेना ने बाहर का रास्ता दिखा दिया है।
पिछले कुछ दिनों से चर्चा थी कि बीड में शिवसेना के नेता जयदत क्षीरसागर बीजेपी में शामिल होने जा रहे हैं। क्षीरसागर ने खुद यह संकेत नहीं दिया था कि वह ठाकरे समूह को छोड़ देंगे। हालांकि कहा जा रहा है कि वह भाजपा में शामिल होना चाहते हैं। इसी पृष्ठभूमि में यह बात सामने आ रही है कि जयदत्त क्षीरसागर को बीड में ठाकरे समूह के जिलाध्यक्ष अनिल जगताप द्वारा मीडिया से बातचीत के दौरान दिए गए बयानों के चलते शिवसेना से विधिवत निष्कासित कर दिया गया है। साथ ही दो दिन पहले हुए महाराष्ट्र स्वर्ण जयंती नगरोत्थान महाभियान कार्यक्रम में उपस्थिति को भी इसका कारण बताया जा रहा है।
उद्धव ठाकरे के नेतृत्व पर क्षीरसागर अक्सर नाराजगी जता चुके हैं। शिंदे समूह के विद्रोह के बाद यह ही अनुमान लगाया गया था कि क्षीरसागर भी उनके साथ शामिल होंगे। हालांकि, ऐसा नहीं हुआ। लेकिन पिछले कुछ दिनों से कहा जा रहा है कि क्षीसागर बीजेपी में शामिल होने के लिए बेताब हैं। भाजपा और शिंदे समूह के बीच गठबंधन के कारण बीड से आगामी चुनाव कौन लड़ेगा? कहा जाता है कि इसी असमंजस के चलते क्षीरसागर ने अभी तक बीजेपी में शामिल होने का फैसला नहीं किया है।
क्षीरसागर के राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी सुरेश नवले शिंदे समूह में शामिल हो गए हैं। गठबंधन की वजह से अगर यह सीट शिंदे समूह को जाती है तो क्षीरसागर को भाजपा में शामिल होने पर भी कुछ नहीं मिलेगा। इस पृष्ठभूमि में जहां उनका राजनीतिक भ्रम जारी है, वहीं अब ठाकरे समूह की ओर से यह ऐलान किया गया है कि उनका शिवसेना से कोई लेना-देना नहीं है।
बीड जिलाध्यक्ष अनिल जगताप ने मीडिया से बात करते हुए संकेत दिया है कि जयदीप क्षीरसागर को पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि यह हमारा सौभाग्य है कि क्षीरसागर का शिवसेना से कोई लेना-देना नहीं है। हमारे लिए यह घोषणा करने का समय आ गया है कि क्षीरसागर जिसका हम वर्षों से विरोध कर रहे हैं, को शिवसेना से हटा दिया गया है।
अभी दो दिन पहले मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने नगरोत्थान अभियान के तहत बीड में 70 करोड़ सीमेंट सड़क और नाले के विकास कार्यों का उद्घाटन किया था। इस मौके पर उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस भी मौजूद थे। साथ में जयदत क्षीरसागर भी मौजूद थे। यही उनके खिलाफ कार्रवाई की तात्कालिक वजह बताई जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.