Bhopal: शाबास रबीना..! आठ माह के बेटे की परवाह किए बगैर मौत के मुंह से खींच लाई किसान को

लेख समाचार

अजय भट्टाचार्य
कंजर
समाज को आदतन अपराधी माना जाता है, उसी समाज की महिला है रबीना (Rabina) जिसने अपनी छाती से लिपटे दस माह के बच्चे की प्रवाह न कर बरसाती पानी से उफनते नाले में डूब रहे युवकों की जान बचाने के लिए छलांग लगा दी और एक को बचा भी लिया। मामला भोपाल (Bhopal) के नजीराबाद (Nazirabad) थाना इलाके का है. थाना प्रभारी बीपी सिंह के अनुसार कढैयाकला गाँव का रहने वाला राजू अहिरवार खेती किसानी करता था। गुरुवार को वह अपने साथी जितेंद्र अहिरवार के साथ खजूरिया गाँव स्थित खेत पर कीटनाशक का छिड़काव करने पहुंचा था। दिनभर काम करने के बाद शाम करीब छह बजे दोनों वापस घर लौट रहे थे। दोपहर में इलाके में तेज बारिश हुई थी, जिसके चलते कढ़ैयाकला और खजूरिया के बीच स्थित नाला उफान पर आ गया। दोनों युवक जब नाला पार करने लगे तो दूसरी तरफ मौजूद गांव के अन्य साथियों ने उन्हें ऐसा करने से मना किया। उन्होंने बाइक की चाबी शर्ट में बांधकर दूसरी तरफ यह कहते हुए फेंकी कि बाइक लेकर नजीराबाद होकर घर लौटना। दुर्भाग्य से चाबी और शर्ट नाले में गिरकर बह गई। इस पर दोस्तों ने राजू और जितेंद्र से कहा कि वह दूसरे रास्ते से होकर पहुंच रहे हैं, तब तक किनारे ही रहना। राजू और जितेंद्र दोस्तों की बात न मानते हुए नाला पार करने लगे। वे कुछ ही आगे बढ़े थे, तभी पानी के तेज बहाव की चपेट में आकर बह गए।

जिस समय वे दोनों युवक नाला पार करने का प्रयास और दोस्तों से बातचीत कर रहे थे, उस दौरान पूरा नजारा पास ही कंजर टपरे में रहने वाली रबीना भी देख रही थी। उसकी गोद में 10 महीने का बच्चा था। उसने भी दोनों को नाला पार करने से मना किया। रबीना ने जैसे ही दोनों को पानी में बहता हुआ देखा, वैसे ही उसने बच्चे को जमीन पर बिठाया और खुद नाले में छलांग लगा दी। उसने जितेंद्र को पकड़कर बाहर खींच लिया, लेकिन राजू को नहीं निकाल पाई। उसने दूसरे युवक को भी बचाने का प्रयास किया, लेकिन उसे नहीं बचा सकी। राजू के भाई सुरेश अहिरवार ने नजीराबाद पुलिस को घटना की सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने कुछ देर तक नाले में तलाश की, लेकिन जब कुछ पता नहीं चला तो कार्रवाई रोक दी गई। शुक्रवार की सुबह होमगार्ड (Homeguard) के जवान और गोताखोरों की मदद से दोबारा खोजबीन शुरू की गई तब करीब दस बजे नाले में करीब पंद्रह फीट गहराई में राजू की लाश मिली। पुलिस ने मामला कायम कर शव का अंत्यपरीक्षण कराने के बाद लाश परिजन को सौंप दी। युवक की जान बचाने पर पुलिस ने महिला को नगद पुरस्कार से पुरस्कृत किया है।

रबीना जिस कंजर समाज से आती है उस समाज पर अपराधिक गतिविधियों में संलिप्त रहने के आरोप लगते रहते हैं। रबीना का पति विजय राम और उसका परिवार लगातार अपने समाज को सुधारने में लगा हुआ है। इसको लेकर वह समाज के लोगों को अपने गांव तहसील और शहर पर समाज की मुख्यधारा से जोड़ने में लगा हुआ है। कंजर समाज को शासन की विभिन्न योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए विजयराम लगातार प्रयासरत रहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.