तेदेपा जैसा है महा(राष्ट्र)संग्राम…!

अजय भट्टाचार्यमहाराष्ट्र की सत्ता के महासंग्राम में शिवसेना जिस अंतर्द्वद्व से जूझ रही है उसकी कहानी 1995 में मेगास्टार एनटी रामा राव की तेलुगु देसम पार्टी के विभाजन के समान दिखती प्रतीत होती है। जिस एन टी रामा राव ने तेदेपा को खड़ा किया था, उनके दामाद चंद्रबाबू नायडू ने न सिर्फ उन्हें सरकार के […]

Continue Reading

Maharashtra politics: फार्मूला तैयार फिर भी इंतजार..!

अजय भट्टाचार्यअदालती कार्यवाही और फैसले में बहुत अंतर होता है। महाराष्ट्र के सत्ता संघर्ष का एक अखाड़ा देश का उच्चतम न्यायालय भी बन गया है। सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने शिवसेना के बागी विधायकों को राहत देते हुए कहा कि उनकी अयोग्यता पर 11 जुलाई तक फैसला नहीं लिया जाए। सुनावई के दौरान उद्धव ठाकरे […]

Continue Reading

23 साल बाद सिमरन को जीत का मान

अजय भट्टाचार्यपंजाब की संगरूर लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव के परिणाम ने एक नई इबारत लिख दी है। 2014 और 2019 के लोकसभा चुनावों में इस सीट पर आम आदमी पार्टी की टिकट पर भगवंत मान जीते थे। चूँकि विधानसभा चुनाव के बाद भगवंत मान सूबे के मुख्यमंत्री बन गये इसलिये उन्होंने यह सीट खाली […]

Continue Reading

आसान नहीं है बगावत को मान्यता

अजय भट्टाचार्यबीते मंगलवार से महाराष्ट्र की राजनीति में उठा भूचाल अभी तक थमा नहीं है। एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में शिवसेना के 38 विधायक कथित रूप से बागी हो चुके हैं। जबकि शिवसेना की ओर से यह दावा किया जा रहा है कि इसका फैसला तो विधानसभा में होगा। यही वह विन्दु है जहाँ बागियों […]

Continue Reading

महाराष्ट्र की महाभारत

अजय भट्टाचार्यराज्यसभा और विधान परिषद चुनाव परिणामों की प्रतिध्वनि महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार पर संकट बनकर उभरी है। यह स्तंभ लिखे जाने तक महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार में मंत्री और उन्हीं की पार्टी शिवसेना के शीर्ष नेता एकनाथ शिंदे कथित तौर पर भाजपा शासित गुजरात में सूरत के मेरिडियन होटल में पार्टी के […]

Continue Reading

राष्ट्रपति चुनाव पर कितना गंभीर है विपक्ष

अजय भट्टाचार्यफारुक अब्दुल्ला द्वारा राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी से पीछे हटने के बाद विपक्ष को तय करना है कि सर्वमान्य व सशक्त उम्मीदवार कौन हो। राकांपा मुखिया शरद पवार पहले ही इस चुनाव में उम्मीदवार बनने से मना कर चुके हैं। पवार के न्योते पर फिर एक बैठक होनी है जिसमें व्यस्तता के चलते ममता […]

Continue Reading

कांग्रेस के जिंदा होने का मौका

मंगलेश्वर (मुन्ना)त्रिपाठी कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष व सांसद राहुल गांधी की नेशनल हेराल्ड केस में प्रवर्तन निदेशालय द्वारा दो दिन तक चली पूछताछ में क्या कुछ ठोस निकलेगा, निकलेगा भी या नहीं, यह कहना अभी जल्दबाजी होगी। लेकिन यह नरेटिव जरूर बन रहा है कि इस पूरे प्रकरण में कांग्रेस जिस तरह अपने नेता के […]

Continue Reading

दार्जिलिंग में अड़ी नेपाली छड़ी

अजय भट्टाचार्यपश्चिम बंगाल में दार्जिलिंग पहाड़ों को नियंत्रित करने वाली अर्ध-स्वायत्त परिषद गोरखालैंड प्रादेशिक प्रशासन (जीटीए) के चुनाव में एक तिहाई से ज्यादा सीटों पर छड़ी/बेंत का बोलबाला है। नेपाल की राजनीति से बरास्ता जीटीए दार्जिलिंग तक छड़ी की यात्रा रोचक है। नेपाल के काठमांडू और धरन में छड़ी के सहारे अपेक्षाकृत कमजोर वर्ग के […]

Continue Reading

राष्ट्रपति चुनाव और नीतीश कुमार

अजय भट्टाचार्यखबरों में बने रहने का नीतीश कुमार का अलग अंदाज है। इस साल रमजान में इफ्तार पार्टियों के बाद से वे लगातार किसी न किसी मुद्दे पर खबरों में बने हुए हैं और शायद बिहार की सत्ता में भागीदार भाजपा को परोक्ष सन्देश भी देते रहते हैं कि टाइगर अभी जिंदा है। पिछले चार […]

Continue Reading

Rajya sabha Election: घोड़ा बाजार बनता राज्यसभा चुनाव

अजय भट्टाचार्यमहाराष्ट्र की तरह राजस्थान में भी राज्यसभा का चुनाव दिलचस्प हो गया है। महाराष्ट्र में राज्यसभा की छठी सीट और राजस्थान में चौथी सीट के लिए घोडा बाजार भीतर ही भीतर गुलजार हो रहा है। उद्योगपति और मीडिया बैरन सुभाष चंद्रा ने भी राजस्थान में भाजपा के भरोसे राज्यसभा उम्मीदवार के तौर पर पर्चा […]

Continue Reading