Delhi Politics: दिल्ली में ऑपरेशन लोटस जारी

राजनीति समाचार

अजय भट्टाचार्य
दिल्ली
में मचे राजनीतिक घमासान के बीच ऑपरेशन लोटस भी साथ-साथ चल रहा है। गुरुवार को खबर उड़ी कि आम आदमी पार्टी के 40 विधायक पार्टी नेतृत्व के संपर्क से बाहर हैं। हालांकि पार्टी के विधायक व प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने बताया कि विधायकों की बैठक में 62 में से 53 विधायक मौजूद थे। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के यहाँ पड़े सीबीआई छापे के बाद नई शराब नीति को लेकर आम आदमी पार्टी (Aam aadmi party) और भाजपा (BJP) एक दूसरे पर हमलावर है। भाजपा नई शराब नीति में लगातार भ्रष्टाचार के आरोप लगा रही है। इसको लेकर सीबीआई सिसोदिया से भी पूछताछ कर चुकी है। इन सबके बीच बुधवार को आम आदमी पार्टी ने भाजपा पर विधायकों को तोड़ने का आरोप लगाया था। इसी कड़ी में आम आदमी पार्टी की ओर से मुख्यमंत्री और आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल (Aravind Kejriwal) के नेतृत्व में एक बैठक भी बुलाई गई थी। सूत्रों का दावा है कि आप के कई विधायक पार्टी की पहुंच से बाहर हैं। यही कारण है कि आम आदमी पार्टी अब एक बार फिर से भाजपा पर हमलावर हो गए।
आप का आरोप है कि भाजपा उनके विधायकों को तोड़ने की कोशिश कर रही है। 40 विधायकों को तोड़ने का प्रयास किया गया है। मुख्यमंत्री आवास पर आम आदमी पार्टी के विधायकों की बैठक होनी थी। आम आदमी पार्टी को उम्मीद है कि इस बैठक में सभी विधायक शामिल होंगे। विधायक व नेता आतिशी मार्लेना के अनुसार भाजपा कई दिनों से कोशिश कर रही है कि दिल्ली सरकार को गिरा सके, पहले भी आप को तोड़ने और सरकार गिराने की कोशिश हुई है। कई विधायकों ने कहा कि उन्हें 20-20 करोड़ रुपए का ऑफर दिया गया।

दिल्ली में आम आदमी पार्टी के 62 विधायक हैं। आप का आरोप है कि भाजपा उनकी सरकार गिराना चाहती हैं। इसी कड़ी में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान चार विधायक सामने आए थे। उन्होंने दावा किया था कि भाजपा की ओर से उन्हें 20 से 25 करोड़ का ऑफर भी दिया गया है। पार्टी के सांसद संजय सिंह ने साफ तौर पर कहा कि मैं नरेंद्र मोदी सरकार की साम दाम दंड भेद का पर्दाफाश करूंगा। आप के राष्ट्रीय प्रवक्ता संजय सिंह (Sanjay Singh) ने दावा किया था कि विधायकों- अजय दत्त, संजीव झा, सोमनाथ भारती और कुलदीप से भाजपा के नेताओं ने संपर्क किया है, जिनके साथ उनके मैत्रीपूर्ण संबंध हैं। सिंह ने कहा कि अगर वे पार्टी (भाजपा) में शामिल होते हैं तो उन्हें 20-20 करोड़ रुपये और अन्य विधायकों को साथ लाने पर 25 करोड़ रुपये की पेशकश की गई है। राज्यसभा सदस्य ने कहा कि उन्होंने (भाजपा नेताओं ने) हमारे विधायकों से कहा कि अगर वे भाजपा में शामिल होने का प्रस्ताव स्वीकार नहीं करते हैं, तो उन्हें भी झूठे मामलों, सीबीआई (CBI) और ईडी (ED) का सामना करना पड़ेगा जैसे (दिल्ली के उपमुख्यमंत्री) मनीष सिसोदिया सामना कर रहे हैं।
(कृपया नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करें 👇)

Leave a Reply

Your email address will not be published.