देवबंद : मुस्लिम मतदाता तय करेगा जीत-हार

उत्तर प्रदेश समाचार

अजय भट्टाचार्य
पश्चिमी
उत्तर प्रदेश की देवबंद विधानसभा सीट पर सबकी निगाहें हैं। मुस्लिम दीनी इदारे दारुल उलूम और सिद्धपीठ त्रिपुर बाला सुंदरी मंदिर से देवबंद की देश-दुनिया में अलग पहचान है। यहां से निकला सियासी संदेश अन्य चरणों के चुनाव में भी अहम होगा। ध्रुवीकरण के बीच भाजपा और सपा प्रत्याशियों के बीच सजातीय मतों में बिखराव रोकना भी एक चुनौती है। अभी ज्यादातर वोटर खामोश हैं। वे अभी पता कर रहे हैं कि पहले चरण में किसकी हवा चली। भाजपा ने विधायक बृजेश सिंह को फिर से प्रत्याशी बनाया है। सपा ने पूर्व मंत्री राजेंद्र राणा के बेटे कार्तिकेय राणा को उतारा है। दोनों राजपूत हैं। बसपा से चौधरी राजेंद्र सिंह और कांग्रेस से राहत खलील ताल ठोक रहे हैं। एआईएमआईएम ने जमीयत उलमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौलाना महमूद मदनी के भतीजे उमेर मदनी को प्रत्याशी बनाया है। यहां का सारा गणित इस पर टिका हुआ है कि मुस्लिम मतों में बसपा, कांग्रेस और एआईएमआईएम कौन सबसे ज्यादा सेंधमारी करता है। भाजपा का सारा जोर ध्रुवीकरण पर है।  राजपूत मतों के लिए भाजपा और सपा दोनों के प्रत्याशियों में जंग है। इस सीट पर दोबारा भाजपा का रथ रोकने के लिए सपा प्रत्याशी कार्तिकेय राणा का दारोमदार सजातीय मतों के साथ मुस्लिम और जाट मतदाताओं पर टिका है। विधायक बृजेश सिंह भाजपा के परंपरागत सजातीय मतों के साथ अति पिछडे़ और सवर्णों को साधने में जुटे हैं। अतीत के झरोखे से देखें तो आजादी के बाद इस सीट पर ज्यादातर ठाकुर ही विधायक बने हैं। गैर राजपूत सिर्फ तीन बार यहां से जीतकर विधानसभा पहुंचे। भितरघात सपा और भाजपा दोनों के लिए चुनौती बनी हुई है।
देवबंद में सियासी गर्मी चरम पर है। लोग कहते हैं, बसपा में नौकरशाही पर अंकुश था। महंगाई पर नियंत्रण और कानून-व्यवस्था मजबूत थी। तब और अब में काफी अंतर है। सपा सरकार में महंगाई पर अंकुश था। भाजपा के शासनकाल में महंगाई बढ़ने, निजीकरण को बढ़ावा और नौकरियां नहीं मिलने का हवाला देते हैं। भाजपा सरकार में महंगाई और बेरोजगारी बेतहाशा बढ़ी है। लोग अभी पहले चरण के मतदान को लेकर गुणा-भाग कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि विकास दूसरी सरकारों से ज्यादा हुआ है और बिजली संकट नहीं रहा। पिछले चुनाव में भाजपा उम्मीदवार बृजेश सिंह 1,02,244 मत पाकर विजयी हुए थे। दूसरे क्रम पर बसपा के माजिद अली को 72,844, सपा के माविया अली को 55,385 और रालोद के भूपेश्वर त्यागी को 1132 मत मिले थे।
सहारनपुर देहात में भी कड़ा मुकाबला
देवबंद से सटी सहारनपुर देहात विधानसभा सीट पर भी कड़ा संघर्ष है। भाजपा ने इस सीट पर चार बार विधायक रह चुके जगपाल सिंह को चुनाव मैदान में उतारा है, जो भाजपा के परंपरागत वोटों के अलावा अनुसूचित जाति के वोटों में भी सेंध लगा सकते हैं। सपा से आशु मलिक, बसपा से अजब सिंह, कांग्रेस से संदीप कुमार, एआईएमआईएम से मरगूब हसन चुनावी रण में हैं। दिलचस्प बात यह है कि सामान्य सीट पर भाजपा और बसपा ने अनुसूचित जाति के प्रत्याशियों पर दांव खेला है।
(लेखक देश के जाने माने पत्रकार और राजनीतिक विश्लेषक हैं।)

Leave a Reply

Your email address will not be published.