Election Results : अब अगली पारी की तैयारी

राजनीति राष्ट्रीय

अजय भट्टाचार्य
चुनाव
प्रधान देश में कल पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के परिणाम आ चुके हैं। इस साल चुनावों की एक पारी पूरी हो चुकी है और भारतीय जनता पार्टी सबसे बड़ी विजेता बनकर उभरी है। चुनाव की अगली पारी उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव का मतदान व मतगणना पूरी होने के बाद विधान परिषद की खाली हो रही सीटों का चुनाव कराया जाएगा। एमएलसी चुनाव के लिए नौ अप्रैल को मतदान होगा, चुनाव की अधिसूचना 15 मार्च को जारी होगी, जबकि मतगणना 12 अप्रैल को कराई जाएगी। इसी महीने के आखिरी दिन 31 मार्च को पंजाब में राज्यसभा की पांच सीटों पर मतदान होगा। शाम पांच बजे के बाद परिणाम आएंगे। नामांकन पत्र दाखिल करने की तारीख 21 मार्च है। पंजाब में 16वीं विधानसभा के गठन के लिए जारी चुनाव प्रक्रिया अपने समापन की तरफ बढ़ रही है, वहीं सूबे की पांच राज्यसभा सीटों के लिए चुनाव का एलान कर दिया गया है। चुनाव आयोग की ओर से जारी सूचना के अनुसार पंजाब में कुल सात राज्यसभा सीटें हैं, जिनमें से पांच पर मौजूदा सांसद सुखदेव सिंह ढींडसा, नरेश गुजराल, श्वेत मलिक, प्रताप सिंह बाजवा और शमशेर सिंह दूलो का अप्रैल में कार्यकाल समाप्त होने वाला है। इन्हीं पांच सीटों के लिए चुनाव का एलान किया गया है, जिसके लिए अधिसूचना 14 मार्च को जारी होगी। नामांकन पत्र दाखिल करने की अंतिम तिथि 21 मार्च, नामांकन पत्रों की जांच 22 मार्च और नामांकन वापस लेने का काम 24 मार्च तक होगा। मतदान 31 मार्च को सुबह 9 से 4 बजे तक होगा और उसके बाद 5 बजे चुनाव परिणाम घोषित किए जाएंगे। चूँकि पंजाब में आम आदमी पार्टी 90 से अधिक सीटें जीतकर सत्ता में स्थापित हो रही है ऐसे में राज्यसभा सीटों का गणित भी बदलेगा।
अब अगले महीने अप्रैल में दिल्ली नगर निगमों के चुनाव होने हैं। जिसकी घोषणा बुधवार को होनी थी मगर चुनाव आयोग द्वारा प्रेस कांफ्रेंस बुलाने के बाद ऐन वक्त पर घोषणा नहीं की गई। लगभग इसी दौरान मुंबई महानगर पालिका के भी चुनाव अपेक्षित हैं। इसके बाद बिहार विधान परिषद और राज्य सभा के द्विवार्षिक चुनाव होने हैं। जुलाई में राष्ट्रपति और उप राष्ट्रपति के भी चुनाव संभावित हैं। इस साल के अंत तक गुजरात और हिमाचल प्रदेश में विधान सभा चुनाव भी होने हैं। उत्तर प्रदेश में विधान परिषद में स्थानीय प्राधिकारी क्षेत्र के 36 सदस्यों की चुनाव प्रक्रिया स्थगित हो गई है। अब विधानसभा चुनाव का मतदान व मतगणना पूरी होने के बाद एमएलसी की खाली हो रही सीटों का चुनाव कराया जाएगा। निर्वाचन आयोग ने यह निर्णय राजनीतिक दलों के अनुरोध के बाद लिया है। एमएलसी चुनाव के लिए नौ अप्रैल को मतदान होगा, चुनाव की अधिसूचना 15 मार्च को जारी होगी, जबकि मतगणना 12 अप्रैल को कराई जाएगी। 100 सीटों वाली विधान परिषद में स्थानीय प्राधिकारी निर्वाचन क्षेत्रों की 36 सीटें यहां राजनीतिक दलों का गणित बदलती रही हैं। वर्ष 2016 के चुनाव में सपा की 31 सीटें आई थीं। दो सीटों पर पर बसपा जीती थी। रायबरेली से कांग्रेस के दिनेश प्रताप सिंह जीते थे। बनारस से बृजेश कुमार सिंह व गाजीपुर से विशाल सिंह ‘चंचल’ चुने गए थे। दिनेश प्रताप सिंह बाद में भाजपा में शामिल हो गए। यह चुनाव इसलिए भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि भाजपा इसमें अधिक से अधिक सीटें जीतकर विधान परिषद में बहुमत हासिल करना चाहेगी, जबकि सपा अपनी सीटें बचाने में जुटेगी। वर्ष के अंत में गुजरात और हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं। दोनों ही राज्यों में भाजपा की सरकार है। हिमाचल प्रदेश में 68 और गुजराज में 182 विधानसभा सीटें हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.