महाराष्ट्र मंत्रिमंडल का विस्तार, 18 मंत्रियों में एक भी महिला नही

मुंबई समाचार

न्यूज स्टैंड18 नेटवर्क
मुंबई।
मंगलवार को 50-50 के फार्मूले पर महाराष्ट्र मंत्रिमंडल का विस्तार हो गया। कुल 18 विधायकों ने मंत्री पद की शपथ ली। इनमे भाजपा और शिंदे गुट के 9-9 सदस्य शामिल हैं। इस नई सरकार की खास बात यह है, हमेशा महिलाओं और बेटियों के अधिकार की दुहाई देने वाली इस सरकार के मंत्रिमंडल में एक भी महिला शामिल नहीं है।
मंत्रिमंडल का गठन होने के बाद राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की सांसद सुप्रिया सुले ने कहा है कि, एकनाथ शिंदे ने अपने मंत्रिमंडल में आधी आबादी यानी महिलाओं को जगह नहीं दी है। यह बहुत गलत है। शिवसेना के आनंद दुबे ने भी किसी भी महिला को मंत्री नहीं बनाने का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा है कि, सरकार का कहना है, सब का साथ, सबका विकास, लेकिन हमारी आधी आबादी के साथ सौतेला व्यवहार।
सरकार गठन के 39 दिन बाद उनके मंत्रियों ने शपथ ली। सबसे पहले भाजपा के राधाकृष्ण विखे पाटिल ने मंत्री पद की शपथ ली। उनके बाद भाजपा के ही सुधीर मुनगंटीवार, चंद्रकांत राधा पाटिल, विजय कुमार गावित और गिरीश महाजन ने शपथ ली। इसके बाद शिंदे गुट के गुलाब राव पाटिल, दादा भुसे, संजय राठौड़, सुरेश खाड़े, संदीपन भुमरे ने शपथ ली।
11वें नंबर पर शिंदे गुट के उदय सामंत शपथ लेने आए। उनके बाद तानाजी सावंत (शिंदे गुट), रवींद्र चव्हाण (भाजपा), अब्दुल सत्तार (शिंदे गुट), दीपक केसरकर (शिंदे गुट), अतुल सावे (भाजपा), शंभूराज देसाई (शिंदे गुट), मंगल प्रभात लोढा (भाजपा) ने शपथ ली।
जिस संजय राठौड़ को लेकर भाजपा कभी आंदोलन चला रही थी। भाजपा नेता चित्र बाघ ने जगह आंदोलन भी किया था। अब संजय राठौड़ देवेंद्र फडणवीस के साथ काम करेंगे। विपक्ष के नेताओं ने उम्मीद जताई है कि, अब संजय राठौड़ भी बेगुनाह और पवित्र हो गए होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.