Govardhan puja 2022: सूर्य ग्रहण ने बदल दिया गोवर्धन पूजा का समय, जाने सही तिथि और समय

समाचार

Govardhan Puja or Annakoot 2022: ऐसे तो दीपावली के दूसरे दिन ही गोवर्धन पूजा की जाती है, लेकिन इस साल सूर्यग्रहण के कारण गोवर्धन पूजा दिवाली के अगले दिन नहीं होगी। दिवाली 24 अक्टूबर को है, और गोवर्धन पूजा 26 अक्टूबर को होगी। गोवर्धन पूजा को देश के कुछ हिस्सों में अन्नकूट के नाम से भी जानते हैं।
गोवर्धन पूजा के दिन भगवान कृष्ण, गोवर्धन पर्वत और गायों की पूजा की जाती है। गोवर्धन पूजा के दिन 56 या 108 तरह के पकवानों का श्रीकृष्ण को भोग लगाना शुभ माना जाता है। इन पकवानों को ‘अन्नकूट’ कहते हैं।
गोवर्धन पूजा कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को मनाई जाती है। जो इस बार अगले दिन की बजाय एक दिन और बाद मनाई जाएगी। इसी दिन भाईदूज का भी त्योहार मनाया जाएगा।

गोवर्धन पूजा से जुड़ी पौराणिक कथा-

धार्मिक मान्यता एवं कहानियों के अनुशार ब्रजवासियों की रक्षा के लिए भगवान श्रीकृष्ण ने अपनी दिव्य शक्ति से विशाल गोवर्धन पर्वत को छोटी उंगली में उठाकर हजारों जीव-जतुंओं और इंसानी जिंदगियों को भगवान इंद्र के कोप से बचाया था। श्रीकृष्‍ण ने इन्‍द्र के घमंड को चूर-चूर कर गोवर्धन पर्वत की पूजा की थी। इस दिन लोग अपने घरों में गाय के गोबर से गोवर्धन बनाते हैं। कुछ लोग गाय के गोबर से गोवर्धन का पर्वत मनाकर उसे पूजते हैं तो कुछ गाय के गोबर से गोवर्धन भगवान को जमीन पर बनाते हैं।

गोवर्धन पूजा का शुभ मुहूर्त-

गोवर्धन पूजा प्रातःकाल मुहूर्त – 06:29 ए एम से 08:43 ए एम
अवधि – 02 घंटे 14 मिनट
प्रतिपदा तिथि प्रारम्भ – अक्टूबर 25, 2022 को 04:18 PM बजे
प्रतिपदा तिथि समाप्त – अक्टूबर 26, 2022 को 02:42 PM बजे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.