हे (कोह) राम….!

लेख समाचार

अजय भट्टाचार्य
राम
नवमी पर देश के चार राज्यों में साम्प्रदायिक संघर्ष की खबर है। गुजरात, मध्य प्रदेश, झारखंड और पश्चिम बंगाल में राम नवमी के जुलूस के दौरान पथराव, आगजनी, मारपीट और बड़े पैमाने पर हिंसा भड़की। यह सब क्या पूरे देश को हिंदुत्व की प्रयोगशाला बनाने का पूर्वाभ्यास है? अथवा आगामी विधानसभा चुनावों के मद्देनजर वोटों के ध्रुवीकरण की साजिश, इस पर घरे से जाँच और मंथन की जरुरत है। गुजरात और हिमाचल में इस वर्ष के अंत में चुनाव हैं जबकि अगले वर्ष राजस्थान, मध्य प्रदेश, छतीसगढ़, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में। कर्नाटक में हिजाब के बहाने राजनीति हो रही है और अन्य प्रदेशों में हिंदू-मुसलमान का प्रयोग साथ में हलाल और हराम मांस आदि ऐसे मुद्दे हैं जो धर्म आधारित राजनीति को पोषित पल्लवित करते हैं।
मध्य प्रदेश के खरगौन शहर में रामनवमी के जुलूस पर भड़की हिंसा के बाद शहर के तीन क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा है। जुलूस के दौरान उपद्रवियों द्वारा किये गये पथराव और आगजनी की घटनाएं हुईं, जिसमें कुछ वाहनों को आग लगा दी गई। जिला मुख्यालय स्थित तालाब चौक पर रामनवमी का जुलूस निकलते ही जुलूस पर पथराव हुआ।
गुजरात के आणंद जिले के खंभात और साबरकांठा जिले के हिम्मतनगर में भी रामनवमी पर सांप्रदायिक झड़पें हुई हैं। खंभात में जिस स्थान पर रामनवमी के जुलूस के दौरान दो समूह आपस में भिड़ गए थे, वहां से 60-65 साल के एक अज्ञात व्यक्ति का शव बरामद हुआ है। जबकि साबरकांठा के हिम्मतनगर में भीड़ ने जुलूस के दौरान कुछ वाहनों और दुकानों को क्षतिग्रस्त कर दिया। पश्चिम बंगाल के हावड़ा में शिबपुर इलाके में भी रामनवमी के जुलूस के दौरान झड़प की खबर है।. बंगाल में विपक्षी भाजपा का आरोप है कि रामनवमी के जुलूस पर पुलिस ने हमला किया था। विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी ने पुलिस कर्मियों पर रामनवमी जुलूस में भाग लेने वालों पर वार करने का आरोप लगाया है। झारखंड के लोहरदगा से भी रामनवमी के जुलूस पर पथराव और आगजनी की खबरें हैं। वहां भी कई लोगों के घायल होने की खबर है, जिनमें से तीन की हालत गंभीर है। कुछ दिनों से देश के कई हिस्सों से हिंसक घटनाएं सामने आ रही हैं। अब इन्हीं घटनाओं पर हैदराबाद के सांसद और एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने इन घटनाओं के लिए हिंदूवादी संगठनों को जिम्मेदार माना है। उन्होंने इन हिंसक घटनाओं का जिक्र किया और कहा कि ये सब हिंदुत्व भीड़ कर रही है। पिछले कुछ दिनों से पुलिस के आशीवार्द से हिंदुत्व भीड़ इन जगहों पर हिंसा भड़का रही है। राजस्थान, गुजरात, मध्यप्रदेश, कर्नाटक, बिहार, उत्तर प्रदेश और गोवा का नाम लेते हुए ओवैसी ने ट्वीटर पर लिखा कि “धर्म गुरुओं” द्वारा लोगों को मुसलमानों के खिलाफ नरसंहार और बलात्कार की बात कही जा रही है। कई जगहों पर मुसलमानों के खिलाफ नफरत भरे भाषण देने के लिए आरएन (रामनवमी) यात्राओं का इस्तेमाल किया गया। कुछ दिनों पहले ही उत्तर प्रदेश जिले में एक मस्जिद के बाहर एक सभा को संबोधित करते हुए हिंदू महंत कथित तौर पर मुस्लिम महिलाओं के अपहरण और बलात्कार की धमकी दे रहे थे। वो कहते हुए सुनाई दे रहे थे कि अगर कोई मुस्लिम इलाके में किसी लड़की को परेशान करता है, तो वे मुस्लिम महिलाओं का अपहरण कर सार्वजनिक रूप से उनका बलात्कार करेंगे। वहीं भीड़ “जय श्री राम” के नारे लगाकर उसका जय-जयकार कर रही थी। सवाल यही है कि क्या यही वह हिंदुत्व है जो वसुधैव कुटुंबकं का जप करता है और परहित सरिस धरम नहिं भाई गाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.