कैसे होगा यूपी अपराध मुक्त? जब दरोगा बंदूक में गोली डालना तक नहीं जानते…

उत्तर प्रदेश समाचार

संतकबीरनगर। उत्तर प्रदेश सरकार हमेशा अपने पुलिस जवानों को चुस्त और दुरुस्त रखने का प्रयास करती रहती है, जिससे वह मौका पड़ने पर अपराधियों से लोहा ले सके, लेकिन इन्ही में कुछ ऐसे भी जवान हैं जिन्हे सही से बंदूक चलानी तो छोड़िए, उसमे गोली तक भरने नही आती।
इसका खुलासा तब हुआ, जब बस्ती रेंज के डीआईजी आरके भारद्वाज संतकबीरनगर जिले के थानों का औचक निरीक्षण करने का निर्णय लिया। निरीक्षण के दौरान डीआईजी साहब खलीलाबाद कोतवाली पहुंचे। उन्होंने इस दौरान एक सब इंस्पेक्टर से बंदूक में गोली डालने के लिए कहा, तो वह नली के सहारे बंदूक में गोली डालने लगा। यह देखकर डीआईजी साहब भी हक्का-बक्का रह गए। इसके बाद डीआईजी आरके भारद्वाज ने सभी को नियमित प्रैक्टिस का निर्देश दिया ताकि किसी भी आपात स्थिति से निपटा जा सके।
खलीलाबाद उन्होंने पुलिसकर्मियों से आपात स्थिति से निपटने के लिए टीयर गन, पिस्टल और अन्य हथियार को ऑपरेट करने को कहा। हद तो तब हो गई जब एक सब इंस्पेक्टर श्याम मोहन सिंह राइफल में गोली ही नहीं डाल पाया। इतना ही नहीं जब डीआईजी साहब ने कहा कि ऐसे फायर करने से क्या होगा तो उसकी बात सुनकर सभी हंसने लगे। सब इंस्पेक्टर ने कहा कि ऐसा फायर जिससे किसी को चोट न लगे। उसकी यह बात सुनकर वहां मौजूद अन्य पुलिसकर्मी भी हंसने लगे।
इसके बाद एक और दरोगा जी को जब बंदूक थमाई गई तो डीआईजी ने उनसे पूछा इससे क्या निकलती है। तो दरोगा जी का जवाब था आवाज निकलती है… यह सुनकर डीआईजी ने कहा कि वह तो हर बंदूक से निकलती है
डीआईजी आरके भारद्वाज मीडिया से बात करते हुए बताया कि कोतवाली में जो भी खामियां मिली वह सही ट्रेनिंग और रिहर्सल न होने का ही नतीजा था। यह रिहर्सल और प्रैक्टिस हम उस परिस्थितियों के लिए करते हैं जिनका सामना भविष्य में कभी हो सकता है। अब जो भी कमी सामने आई है अब उसकी प्रॉपर ट्रेनिंग होगी और मुझे उम्मीद है कि भविष्य में जब भी निरीक्षण होगा सब कुछ दुरुस्त मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.