धोंडी कोलीवाड़ा भूमिपुत्रों को पानी दिलाने के लिए सख्त हुए सांसद गोपाल शेट्टी

मुंबई

न्यूज स्टैंड18 नेटवर्क
मुंबई।
उत्तर मुंबई के मालाड (पश्चिम) में धोंडी कोलीवाड़ा के भूमिपुत्र पिछले दो वर्षों से पानी की भारी कमी का सामना कर रहे हैं। समस्या इतनी गंभीर है कि कोली बंधुओं को अपने दैनिक उपयोग के लिए पानी खरीदने के लिए दूर-दूर तक जाना पड़ता है।
पी नार्थ वार्ड जल विभाग का मानना है, धोंडी कोलीवाड़ा मालाड के भौगोलिक क्षेत्र में अंतिम छोर पर है, तकनीकी दृष्टि से पर्याप्त दबाव नहीं होने के कारण पानी की आपूर्ति नहीं हो पा रही है। वैकल्पिक व्यवस्था के तहत ग्रामीणों ने अपने खर्च पर पंप रूम बनाया ताकि पानी को धोंडी कोलीवाड़ा में उच्च दबाव में पंप किया जा सके। लेकिन इतना सब करने के बाद भी समस्या का समाधान नहीं हुआ। फिर बिजली आपूर्ति का सवाल आया।

अडानी इलेक्ट्रिसिटी उक्त क्षेत्र में पानी पंप करने के लिए केवल 25 फीट लंबा, दो फीट चौड़ा और दो फीट गहरा पिट केबल बिछाना चाहती है, लेकिन वन विभाग, मुंबई नगर निगम और अडानी इलेक्ट्रिसिटी के बीच समन्वय की कमी के कारण यह कार्य नहीं हो पा रहा है। दो हफ्ते पहले इसी विषय पर सांसद गोपाल शेट्टी के कार्यालय में हुई थी। सांसद गोपाल शेट्टी ने इस संबंध मे बिजली कार्यालय में श्री अहिरे और संबंधित अधिकारियों के साथ चर्चा की। संभागीय वनाधिकारी एम आदर्श रेड्डी से संपर्क कर अडानी एवं वन विभाग के अधिकारियों के संज्ञान में लाया गया कि तीन साल पुरानी सरकारी नीति की जानकारी के अभाव में एक छोटा लेकिन महत्वपूर्ण कार्य पिछले दो वर्षों से ठप है।
उत्तर मुंबई भाजपा मीडिया प्रमुख नीला बेन सोनी ने प्रेस विज्ञप्ति में बताया है कि, समस्या के समाधान का कोई रास्ता नहीं निकलता है, तो इसके खिलाफ नगर निगम, अडानी बिजली व वन विभाग के कार्यालय व अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इसका खामियाजा अधिकारी वर्ग और प्रशासन को भुगतना पड़ेगा। ऐसी चेतावनी सांसद गोपाल शेट्टी ने अपने दौरे के दौरान दी।
गोपाल शेट्टी ने यह भी कहा कि, मनपा व अडानी अधिकारी गैरजिम्मेदाराना ढंग से काम कर रहे हैं। बिजली आपूर्ति के लिए केबिन मौके पर है और पानी की आपूर्ति के लिए लाइन लाने में कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन ये अधिकारी उपाय नहीं कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.