Mumbai Municipal Corporation: 2011 तक के सभी झोपड़ों को सुरक्षा मुहैया कराया जाय- सांसद गोपाल शेट्टी

मुंबई

न्यूज़ स्टैंड18 डेस्क
मुंबई।
2011 तक के झोपड़ावासियों को सुरक्षा मुहैया कराए जाने की मांग को लेकर सांसद गोपाल शेट्टी (Gopal Shetti) ने मनपा आयुक्त की एक पत्र लिखा है।
ज्ञात हो कि सांसद गोपाल शेट्टी लगातार झोपड़पट्टी मुक्त मुंबई के लिए कार्यरत हैं। गृह निर्माण मंत्री, पूर्व मुख्यमंत्री विरोधी पक्ष नेता देवेंद्र फडणवीस, राज्यपाल भगत सिंह कोशीयारी से बैठक से लेकर पत्रकार परिषद तक गोपाल शेट्टी ने गरीबों के अधिकार और उन्हे न्याय दिलाने की बात कही है। भाजपा मुंबई के द्वारा इस कार्य की विशेष जिम्मेदारी भी सांसद श्री शेट्टी को दी गई है।
उत्तर मुंबई भाजपा की प्रचार प्रमुख नीला बेन सोनी राठोड़ ने बताया कि 22 नवंबर को सांसद गोपाल शेट्टी ने मनपा आयुक्त इकबाल सिंह चहल को एक पत्र लिखकर ध्यानाकर्षित किया है। श्री शेट्टी ने पत्र के माध्यम से निवेदन किया है कि महाराष्ट्र सरकार के 2018 में पारित किए 2011 तक के झोपड़पट्टी वासियों को एसआरए निर्मित मकान मुहैया हो। पत्र में आगे उन्होंने लिखा है कि, सरकारी जमीन पर 2011 से पूर्व कब्जा कर रहने वालो को भी जमीन खाली करवाकर प्रयायी घर मुहैया करवाया जाय। इस प्रकार का नियम लागू करने के बावजूद भी महानगरपालिका के पास झोपड़ावासी अनुमति या एनओसी लेने जाते हैं तो मनपा प्रशासन अनुमति नहीं देता है। साथ ही अपनी परिश्रम की कमाई से प्राइवेट जमीनों पर झोपड़ों को मरम्मत के लिए भी अनुमति मनपा प्रशासन और अधिकारी नहीं देते हैं। ऐसे समय पर अधिकारीगण 1962 के पुराने नियम को सामने रखकर निर्णय लेते हैं।
दूसरा एक महत्वपूर्ण मुद्दा जो की स्वयं के पसीने की कमाई से बने मकान की मरम्मत के लिए गरीब व्यक्ति जब मनपा में जाता है तो कुछ आरटीआई कार्यकर्ता रुकावट खड़ी करते हैं। मनपा प्रशासन और ऐसे आरटीआई कार्यकर्ताओं के कारण मामला लंबे समय तक कोर्ट कचहरी में बेवजह चलता रहता है। न विकास होता है और न ही गरीब को अपना घर मिलता है।
सांसद गोपाल शेट्टी ने इस पत्र के द्वारा मनपा आयुक्त इकबाल सिंह चहल को ढिलाई न बरतते हुए शीघ्र ही संबंधित विभागों को दिशा निर्देश देने के लिए कहा है। ताकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वप्न 2022 तक सभी को मिले अपना घर को पूरा करने में कामयाबी मिल सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published.