Pratap Sarnaik : जल्द मिल सकती है ED से राहत, EOW की क्लोजर रिपोर्ट दाखिल

मुंबई

न्यूज स्टैंड18 डेस्क
मुंबई।
ED की कार्रवाई को लेकर चर्चे में रहने वाले विधायक प्रताप सरनाइक को बड़ी राहत मिली है। राजनीतिक हलके में इसे शिवसेना से बगावत करने का पहला लाभ बताया जा रहा है। प्रताप सरनाइक इस समय मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे गुट के साथ हैं।
न्यूज पोर्टल Mumbai Live ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि, मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट की अदालत ने बुधवार को टॉप्सग्रुप सर्विसेज एंड सॉल्यूशन लिमिटेड के खिलाफ मामले में आर्थिक अपराध शाखा (eow) द्वारा दायर क्लोजर रिपोर्ट को स्वीकार कर लिया।
इसी मामले के आधार पर प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया था और विधायक प्रताप सरनाइक की जांच की थी।
वेबसाइट ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि, गुरुवार को मामले के प्रताप सरनाईक ने मनी लॉन्ड्रिंग रोकथाम अधिनियम (PMLA) के तहत विशेष अदालत का दरवाजा खटखटाया, जिसमें कहा गया कि यह अपराध बंद कर दिया गया है, इसलिए ईडी मामले में कार्यवाही जारी नहीं रह सकती है। आरोपियों ने ईडी मामले में आरोपों से मुक्त होने की मांग करते हुए आरोपमुक्त करने की अर्जी भी दाखिल की।
वेबसाइट ने आगे कहा है कि, EOW ने जनवरी में अदालत के समक्ष एक “सी समरी” क्लोजर रिपोर्ट दाखिल की थी जिसमें कहा गया था कि इस मामले में कोई आपराधिक मामला नहीं बनता है। मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट की अदालत ने बुधवार को रिपोर्ट को स्वीकार कर लिया। टॉप्स के पूर्व एमडी आरोपी मराट शशिधरन के वकील कुशाल मोर ने गुरुवार को विशेष अदालत का दरवाजा खटखटाया और निर्धारित अपराध बंद होने के बाद अपनी न्यायिक हिरासत को और आगे नहीं बढ़ाने की मांग की।
इस मामले में ईडी को जवाब दाखिल करने का समय दिया गया है। मामले की अगली सुनवाई 21 सितंबर को होगी।
ज्ञात हो कि, मार्च 2020 में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने एक मामले में शिवसेना के विधायक प्रताप सरनाईक की 11.35 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.