Rahul Gandhi: कांग्रेस की हल्ला बोल रैली में गरजे राहुल गांधी, मोदी और मीडिया को क्या बोले…

समाचार

न्यूज स्टैंड18 नेटवर्क
नई दिल्ली।
कांग्रेस की हल्ला बोल रैली (Halla bol Raili) में रविवार को राहुल गांधी जमकर दहाड़े। उन्होंने महंगाई को लेकर वर्तमान सरकार को जमकर निशाना बनाया। रविवार को रामलीला मैदान (Ramlila maidan) हल्ला बोल रैली का आयोजन किया गया था, जिसमे शामिल होने के लिए देश भर से बड़ी संख्या में कांग्रेस (Congress) कार्यकर्ता दिल्ली पहुंचे थे।
राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने रैली को संबोधित करते हुए कहा, देश की हालत आपको दिख रही है, जब से बीजेपी की सरकार आई है, तब से देश में नफरत और क्रोध बढ़ता जा रहा है। नफरत डर का रूप है, जिसको डर होता है, सिर्फ उसके दिल में नफरत पैदा होती है।
उन्होंने आगे कहा, जो डरता नहीं है, उसके दिल में नफरत पैदा नहीं होती है। नफरत से लोग बंटते हैं, देश बंटता है, देश कमजोर होता है। बीजेपी-संघ के नेता देश को बांटते हैं, जानबूझकर देश में भय पैदा करते हैं, नफरत पैदा करते हैं। पिछले 8 साल में हिंदुस्तान के गरीब आदमी को, किसान, मजदूर और छोटे दुकानदार को नरेंद्र मोदी की सरकार ने क्या फायदा दिया? पूरा फायदा हिंदुस्तान के सिर्फ दो उद्योगपति उठा रहे हैं। आप बाकी उद्योगपतियों से भी पूछ लीजिए, वह भी आपको बताएंगे कि पिछले 8 साल में हमारा कोई फायदा नहीं हुआ, सिर्फ 2 व्यक्तियों का फायदा हुआ है। मीडिया देशवासियों को डराती है, इससे नफरत पैदा होती है।
राहुल गांधी बोले, फिर बीजेपी पूरा का पूरा फायदा इन्हीं दो लोगों को दे रही है। आज हमारा देश जिन मुश्किलों से गुजर रहा है, इसका पूरा श्रेय भाजपा की गैर-जिम्मेदार सरकार को जाता है। लेकिन हम अपनी जिम्मेदारियों से पीछे नहीं हटेंगे, आम जनता का साथ निभाएंगे, उनकी आवाज बुलंद करेंगे।
आगे बोले, नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी की, क्या नोटबंदी से गरीबों का फायदा हुआ? गरीबों की जेब से पैसा निकाला, गरीबों से कहा गया कि ये काले धन के खिलाफ लड़ाई है। फिर सरकार ने देश के बड़े उद्योगपतियों का कर्ज माफ किया। ये किसान का कर्ज माफ नहीं करेंगे, किसानों के खिलाफ 3 काले कानून लाएंगे। कहा गया कि ये 3 काले कानून किसानों के हित में हैं, तो फिर किसान सड़कों पर क्यों खड़ा है। ये 3 काले कानून किसानों के लिए नहीं थे, ये 3 काले कानून उन्हीं दो उद्योगपतियों के लिए थे। ये बात किसान समझ चुके थे, इसलिए हिंदुस्तान के किसान सड़कों पर आ गए और नरेंद्र मोदी को किसानों की शक्ति दिखा दी।
राहुल गांधी बोले, बीजेपी ने GST को बदला, पांच अलग-अलग टैक्स थोपकर स्मॉल-मीडियम बिजनेस, किसान, मजदूर, छोटे दुकानदारों पर जबरदस्त चोट मारी। आज देश अगर चाहे भी तो अपने युवाओं को रोजगार नहीं दे पाएगा। क्योंकि देश को रोजगार ये दो उद्योगपति नहीं देते हैं, देश को रोजगार स्मॉल-मीडियम बिजनेस, किसान देते हैं और इन लोगों की रीढ़ की हड्डी नरेंद्र मोदी जी ने तोड़ दी है। आपको आज जो बेरोजगारी दिख रही है, वो आने वाले समय में और बढ़ेगी।
राहुल गांधी मंहगाई पर बोलते हुए कहा, आपको एक तरफ बेरोजगारी की चोट लग रही है और दूसरी तरफ महंगाई की। मोदी जी, ये लीजिए महंगाई का पूरा ब्यौरा, आटे से लेकर, तेल, सिलेंडर, दूध, पेट्रोल, के दामों में आपने आग लगा दी है। लीटर छोड़िए, जनता की फ़िक्र कीजिए।
2014 में LPG सिलेंडर 410 रुपए का था, आज 1050 है।
पेट्रोल 70 प्रति लीटर, आज तकरीबन ₹100 प्रति लीटर। डीज़ल ₹55 प्रति लीटर, आज ₹90 प्रति लीटर

सरसों का तेल ₹90 प्रति लीटर, आज ₹200 प्रति लीटर है। हिंदुस्तान के आम नागरिक बहुत मुश्किल में हैं, बहुत दर्द सह रहे हैं।
जब विपक्ष इन बातों को संसद में उठाना चाहता है, तब मोदी सरकार विपक्ष को संसद में बोलने नहीं देती। यहां हमारे मीडिया के मित्र हैं, इनका काम जनता के मुद्दों को उठाने का होता है, मगर ये भी अपना काम नहीं करते हैं। ये अपना काम कैसे करेंगे, क्योंकि ये मीडिया भी उन्हीं दो उद्योगपतियों की मीडिया है। टीवी दो उद्योगपतियों का है, अखबार दो उद्योगपतियों के हैं। ये दो उद्योगपति नरेंद्र मोदी के लिए 24 घंटे काम करते हैं और नरेंद्र मोदी जी इन उद्योगपतियों के लिए 24 घंटे काम करते हैं। चाहे मीडिया हो, ज्यूडिशियरी या चुनाव आयोग हो, सब पर सरकार आक्रमण कर रही है।
भारत जोड़ो यात्रा को लेकर उन्होंने कहा, इसलिए हमारे लिए भारत जोड़ो यात्रा महत्वपूर्ण है, हमें जनता के बीच जाना होगा। जो हिंदुस्तान के संस्थान हैं, चाहे मीडिया हो, प्रेस, ज्यूडिशियरी या चुनाव आयोग हो, उन सब पर दवाब है, उन सब पर सरकार आक्रमण कर रही है।
इसलिए हमारे लिए भारत जोड़ो यात्रा महत्वपूर्ण है, हमें जनता के बीच जाना होगा। जो भी नरेंद्र मोदी के खिलाफ काम करना चाहता है, चाहे कोई भी हो, उसके पीछे ED, CBI, IT को लगा दिया जाता है।
मुझे 55 घंटे ED ने बिठाकर रखा, मगर नरेंद्र मोदी को कहना चाहता हूं कि मैं आपकी ED से नहीं डरता।
हमारा संविधान देश की आत्मा है, इसको बचाने का काम हर हिंदुस्तानी को करना पड़ेगा। अगर हमने ये काम नहीं किया तो फिर ये देश नहीं बचेगा। यह देश सभी का है और देश की जनता जो अपना खून-पसीना देती है, उसका फायदा चुने हुए लोगों को नहीं मिलना चाहिए, उसका फायदा देश के किसान, मजदूर, छोटे दुकानदारों को मिलना चाहिए।
यूपीए की सरकार ने किसानों को 70 हजार करोड़ रुपए दिए और नरेंद्र मोदी की सरकार ने किसानों को काले कानून दिए। यूपीए की सरकार ने मजदूरों के लिए महत्वपूर्ण कानून मनरेगा दिया, नरेंद्र मोदी ने मनरेगा को मजदूरों का अपमान बताया। हम किसान हितैषी भूमि अधिग्रहण बिल लाए, हमने लाखों करोड़ रुपए से गरीब जनता की मदद की।
पहले किसानों से उनकी भूमि बिना पूछे छीन ली जाती थी, हम उसके खिलाफ कानून लाए, मगर नरेंद्र जी ने पहला काम उस कानून को रद्द करने की कोशिश का किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.