Rahul Narwekar: सबसे कम उम्र के विधानसभा अध्यक्ष

मुंबई राष्ट्रीय

अजय भट्टाचार्य
कभी
समाचार माध्यमों में शिवसेना का चेहरा रहे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वर्तमान विधायक 45 वर्षीय राहुल नार्वेकर महाराष्ट्र विधानसभा के अध्यक्ष चुन लिए गये हैं। यह संयोग ही है कि नार्वेकर भी पहले कभी टीवी चैनलों पर शिवसेना का चेहरा हुआ करते थे। एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाले शिवसेना से अलग हुए गुट के साथ सरकार बनाने के बाद, भाजपा ने इस प्रतिष्ठित पद पर नार्वेकर को बिठाकर कई लोगों को आश्चर्यचकित कर दिया है। राहुल नार्वेकर को 164 वोट मिले हैं, जबकि मविआ के प्रत्याशी राजन सालवी के समर्थन में 107 वोट पड़े। समाजवादी पार्टी के दोनों विधायकों ने और एआईएमआईएम के विधायक ने किसी भी पक्ष में मतदान नहीं किया। राहुल नार्वेकर न केवल राज्य में, बल्कि वे पूरे देश में सबसे कम उम्र के विधानसभा अध्यक्ष हैं। राहुल नार्वेकर की जीत ने मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के लिए फ्लोर टेस्ट की राह आसान कर दी है।

पेशे से वकील, नार्वेकर, जो अतीत में शिवसेना के साथ-साथ राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) से जुड़े रहे थे, अक्टूबर 2019 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों के लिए भाजपा में शामिल हो गए। भगवा पार्टी ने उन्हें दक्षिण मुंबई के अपमार्केट कोलाबा निर्वाचन क्षेत्र से मैदान में उतारा, जिसमें उन्होंने जीत हासिल की। वह वर्तमान में राज्य भाजपा के मीडिया प्रभारी भी हैं। नार्वेकर 2014 में राज्य विधान परिषद की सीट के लिए एक आकांक्षी थे, जिसे सेना ने उन्हें अस्वीकार कर दिया था। इसके तुरंत बाद, उन्होंने शरद पवार के नेतृत्व वाली राकांपा में शामिल होने के लिए शिवसेना छोड़ दी। 2014 के लोकसभा चुनाव में उन्होंने राकांपा के टिकट पर मावल निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ा, लेकिन उस समय वह शिवसेना के श्रीरंग अप्पा बार्ने से हार गए थे। इसके बाद, वह भाजपा में चले गए और इसके कोलाबा सीट से विधायक के रूप में चुने गए।
राजनीतिक प्रवृत्ति और अध्यक्ष पद के लिए एक वरिष्ठ और अनुभवी नेता को नामित करने की स्पष्ट और स्थापित परंपरा में, नार्वेकर को प्रमुख पद के लिए चुनने के भाजपा के कदम ने राज्य के राजनीतिक हलकों को आश्चर्यचकित कर दिया है। भाजपा के अंदरूनी सूत्रों ने के अनुसार नार्वेकर को इसलिए चुना गया क्योंकि वह कानूनी और विधायी जटिलताओं से अच्छी तरह वाकिफ हैं। वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य में उनकी विशेषज्ञता राज्य विधानसभा के संचालन में मदद करेगी। पहली बार विधायक होने के बावजूद, नार्वेकर एक अनुभवी नेता रहे हैं क्योंकि उन्होंने लंबे समय तक विभिन्न दलों के साथ काम किया है।
नार्वेकर के परिवार भी राजनीति से जुड़ा है। वह विधान परिषद के पूर्व अध्यक्ष राकांपा के वरिष्ठ नेता रामराजे निंबालकर के दामाद हैं। उनके पिता सुरेश नार्वेकर बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) में नगरसेवक थे। उनके भाई मकरंद वार्ड नंबर 227 से दूसरी बार नगरसेवक हैं। जबकि उनकी भाभी हर्षता भी बीएमसी के वार्ड नंबर 226 से नगरसेवक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.