Rampurhat: रामपुर हाट पर तृणमूल में उठापटक

समाचार

अजय भट्टाचार्य
रामपुरहाट
कांड मामले में बोगतुई के ब्लॉक अध्यक्ष व तृणमूल नेता अनारूल हुसैन की गिरफ्तारी के बाद रोज कोई न कोई खुलासे हो रहे हैं। सीबीआई मामले की तह तक पहुंचने के लिए रोजाना गवाहों की पेशी कर रही है। इस बीच बीरभूम के तृणमूल जिलाध्यक्ष अणुव्रत मंडल ने इस प्रकरण को लेकर एक विवादित बयान दे दिया है। विस्फोटक बयान में अणुव्रत ने अपने ही मंत्री आशिष बनर्जी को चपेटे में ले लिया है। अणुव्रत का कहना है कि अनारूल को आशिष बनर्जी के कहने पर ही ब्लॉक अध्यक्ष बनाया गया था जबकि वह नहीं चाहते थे कि अनारूल को ब्लॉक अध्यक्ष बनाया जाए।
अणुव्रत मंडल का कहना है कि अनारूल को लेकर कुछ बातें सुनी गयी थीं जिसकी वजह से उसे पद से हटाने का विचार किया गया था मगर आशिष बनर्जी की वजह से उसे हटाया नहीं जा सका। मैं अनारूल को बहुत पहले ही उसके पद से हटाना चाह रहा था लेकिन आशिष बनर्जी ने अनुरोध किया था उसे पद पर बनाये रखने के लिए। आशिष बनर्जी ने कहा था कि पंचायत चुनाव तक अनारूल ब्लॉक अध्यक्ष बना रहे। उन्होंने यह भी कहा कि पूरे इलाके की कमान आशिष ही संभालते थे इसलिए मामले को लेकर वह बेहतर तरीके से कुछ भी बोल पाएंगे।
आशिष की सफाई, सर्वसम्मति के बाद पद देने का निर्णय था
इस पूरे प्रसंग में आशिष बनर्जी का कहना है कि जिसे जानना हो वह चिट्ठी देख सकता है। उनका कहना है कि मैंने सादे कागज में लिख कर अनुरोध किया था कि पंचायत चुनाव तक किसी भी ब्लॉक अध्यक्ष को बदला न जाये जिनमें से अनारूल भी एक थे। उन्होंने दावा किया है कि इसे लेकर पार्टी व पंचायत सदस्यों से बात हुई थी जिसके बाद सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया था। उस वक्त मुझे लिखित तौर पर देने के लिए कहा गया था जो मैंने किया। आशिष बनर्जी का कहना है कि अणुव्रत मंडल ने तब अनारूल मंडल को पद से हटाने की बात कही थी।
बोगतुई गांव में जिस तरह घरों को जला दिया गया जिसमें 9 लोगों की जिंदा जलकर मौत हो गयी, उसमें अभियुक्त के तौर पर अनारूल को गिरफ्तार किया गया है। स्थानीय लोगों की माने तो अनारूल और भादू शेख तृणमूल में होकर भी दो खेमों में बंटे हुए थे। अनारूल को लेकर अणुव्रत मंडल भी विरोधी स्वर में बोल रहे हैं। दूसरी तरफ मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भाजपा पर बड़ा आरोप लगाते हुए कह दिया है कि सीबीआई जांच को प्रभावित करने के लिए भाजपा लगी हुई है। रामपुरहाट कांड की रिपोर्ट में कोशिश की जा रही है कि अणुव्रत मंडल को गिरफ्तार करा दिया जाये। दूसरी तरफ खुद अणुव्रत मंडल ने सीबीआई जांच को लेकर संतुष्टि जतायी है। शनिवार को संवाददाताओं द्वारा पूछे गये सवाल के जवाब में अणुव्रत ने कहा कि अब तक इस पूरे मामले में सीबीआई अच्छी तरीके से जांच कर रही है। प्रशासन की ओर से उन्हें पूरा सहयोग भी किया जा रहा है। सीबीआई जांच की प्रक्रिया को अणुव्रत ने शत-प्रतिशत नंबर दिया है। सीबीआई को लेकर अणुव्रत ने कहा कि अब तक जिस तरीके से जांच की जा रही है, वह ठीक है। अणुब्रत मण्डल को मवेशी तस्करी मामले सीबीआई ने फिर किया तलब, 5 अप्रैल को निज़ाम पैलेस में बुलाया। अब नहीं है कोई रक्षा कवच। हाई कोर्ट से अब कोई राहत नहीं दूसरी तरफ खुद अणुव्रत मंडल ने सीबीआई जांच को लेकर संतुष्टि जतायी है। अणुव्रत के मुताबिक अब तक इस पूरे मामले में सीबीआई अच्छी तरीके से जांच कर रही है। प्रशासन की ओर से उन्हें पूरा सहयोग भी किया जा रहा है। सीबीआई जांच की प्रक्रिया को अणुव्रत ने शत-प्रतिशत नंबर दिया है। सीबीआई को लेकर अणुव्रत ने कहा कि अब तक जिस तरीके से जांच की जा रही है, वह ठीक है। इस बीच अणुब्रत मण्डल को मवेशी तस्करी मामले सीबीआई ने फिर 5 अप्रैल को निज़ाम पैलेस में तलब किया है। उधर रामपुरहाट कांड की सीबीआई जांच के बीच ही एक चिट्ठी वायरल हुई है जो पिछले साल की है। हैरत की बात है कि यह चिट्ठी मंत्री आशिष बनर्जी के नाम की है जो अणुव्रत मंडल को दी गयी है। इस चिट्ठी में लिखा है कि पंचायत चुनाव तक अनारूल को ब्लॉक अध्यक्ष बने रहने दिया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.