राहुल पर हंगामा, दरिंदगी पर मौन!

राजनीति समाचार

अजय भट्टाचार्य
गोयबल्स
फैक्ट्री के भारतीय संस्करण के आईटी प्रमुख ने परसों सुबह-सुबह कांग्रेस नेता राहुल गाँधी से संबंधी एक क्लिप/फोटो ट्वीटर पर साझा करते हुए लिखा, कि राहुल गांधी नाइटक्लब में पार्टी कर रहे हैं। उसके बाद वाट्सएप यूनिवर्सिटी और गोदी मीडिया सक्रिय हुआ और इस तस्वीर को लेकर अलग-अलग दावे भी किए जाने लगे। इनमें एक दावा यह कि इस पार्टी में राहुल गांधी जिस महिला से बात करते दिख रहे हैं, वह नेपाल में चीन की राजदूत हाउ यांकी हैं। कई लोगों ने ट्विटर और फेसबुक पर राहुल गांधी का वीडियो शेयर करते हुए दावा किया था। चूँकि हाउ यांकी को भारत विरोधी स्टैंड के लिए जाना जाता है इसलिए ट्रोलर सेना राहुल के पीछे लग गई। कांग्रेस से भाजपा में गये एक प्रवक्ता ने टिप्पणी की कि राजस्थान जल रहा है और राहुल पार्टी कर रहे हैं। यही वह समय था जब तेरह साल की एक बच्ची गैंगरेप का शिकार होने के बाद उत्तर प्रदेश के एक पुलिस थाने के अधिकारी की भी हवस का शिकार हुई और उसकी चीखें राहुल गाँधी की पार्टी वाली खबर के शोर में दब गईं। गोदी मीडिया और उसके मालिकों से उम्मीद की जानी चाहिये कि ललितपुर की बेटी की जगह अगर उसकी अपनी बेटी भी होती तब भी वह राहुल गाँधी की खबर का ही नगाड़ा बजाते।

बहरहाल राहुल की क्लब पार्टी की सच्चाई सामने आई है कि क्लब में जिस महिला से राहुल बात कर रहे थे, वह उनकी उस दोस्त की मित्र है जिसकी शादी में शामिल होने राहुल नेपाल गए थे। राहुल गांधी अपनी पत्रकार दोस्त सुमनिमा उदास की शादी में शामिल होने गए हैं। सुमनिमा उदास म्यांमार में नेपाल के पूर्व राजदूत भीम उदास की बेटी और सीएनएन की पत्रकार हैं। परसों सुमनिमा की शादी हुई है और आज रिसेप्शन प्रस्तावित है। काठमांडू के चर्चित पब ‘लॉर्ड ऑफ द ड्रिंक्स’ में राहुल 2 मई की शाम 5 से 6 लोगों के साथ गए थे। देश की प्रतिष्ठित पत्रिका इंडिया टुडे ने पब के मैनेजमेंट से बातचीत के आधार पर अपनी रिपोर्ट में बताया है कि राहुल गांधी के साथ कोई चीनी राजदूत नहीं थी। राहुल गांधी के साथ दिखी महिला चीनी राजदूत नहीं है बल्कि सुमनिमा उदास की ही एक दोस्त है। यही नहीं वह महिला चीनी मूल की भी नहीं है बल्कि नेपाल की ही रहने वाली है।

अब ललितपुर की घटना पर लौटिये। सामूहिक दुष्कर्म का शिकार हुई एक किशोरी को बयान दर्ज कराने के लिए पाली थाने में बुलाया गया था। किशोरी अपनी मौसी के साथ पहुंची थी। वहां थाने के एसओ ने उस बच्ची के साथ बलात्कार किया। चाइल्ड लाइन में काउंसलिंग के बाद घटना का खुलासा हुआ। एसपी ने थानाध्यक्ष को निलंबित कर दिया है। एसओ समेत चार युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। अब इस मामले में एसओ की संलिप्तता के बाद पूरे पाली थाने को लाइन हाजिर कर दिया गया है और पूरे मामले की जांच की 24 घंटे के भीतर रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं। नाबालिग से दुष्कर्म के बाद फरार पाली थाने के पूर्व एसओ तिलकधारी सरोज की तलाश में तीन पुलिस टीमें लगी हैं। दो आरोपी गिरफ्तार भी हुए हैं जिन्होंने बच्ची के साथ सामूहिक बलात्कार किया था। गोयबल्स फैक्ट्री ने राहुल गाँधी की वीडियो क्लिप और स्क्रीन शॉट को ट्वीटर पर साझा ही इसलिए किया कि ललितपुर की घटना दबी रहे क्योंकि उस समय सूबे के मुखिया अपने पैतृक गाँव में माताश्री के चरण पखार रहे थे। वह मुखिया जो नवरात्र में नौ कन्याओं का पूजन करता है, ललितपुर की घटना पर मौन रहा। गोयबल्स फैक्ट्री का झूठ गोदी मीडिया की बहस का हिस्सा बना। ललितपुर की मासूम की चीखें इन बहसों के शोर में गम होकर रह गईं। पुलिस राज की ओर बढ़ते शासन-प्रशासन के ये प्राथमिक रुझान हैं। जिन लोगों को अब भी अपने धर्म का मिथ्याभिमान है वे ललितपुर की घटना से सीख लें। पीडिता पर उत्पीड़क उसी धर्म के हैं जिसे खतरे में होने के डंके पीटे जा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.