Smart city: फेल हो गया स्मार्ट सिटी मिशन

समाचार

अजय भट्टाचार्य
स्मार्ट
सिटी मिशन की राष्ट्रीय रैंकिंग में एकबार फिर निराशा हाथ लगी है। पिछले दो साल के दौरान प्रोजेक्ट कैटेगरी में चयनित हुए 34 शहरों में राजधानी पटना के साथ ही राज्य के अन्य तीन शहरों भागलपुर, मुजफ्फरपुर और बिहारशरीफ का नाम नहीं है। चुने गए 34 शहराें काे 18 से 20 अप्रैल तक गुजरात के सूरत में हाेने वाले समाराेह में अवाॅर्ड मिलेगा। पटना के साथ ही बिहार की चारों स्मार्ट सिटी तय समय पर अपने प्रोजेक्ट को पूरा करने में नाकाम रहे हैं, जिसके चलते 34 शहरों में स्थान हासिल नहीं हो सका। स्मार्ट सिटी मिशन के तहत 2018 से रैंकिंग के जरिए स्मार्ट शहरों के आकलन का सिस्टम शुरू किया गया था। कोरोना काल के बाद से प्रक्रिया में बदलाव किया गया है। लोगों को सुविधा मुहैया कराने और तय समय में प्रोजेक्ट को पूरा करने वाले शहरों का मूल्यांकन किया जा रहा है।
शहर को सुंदर बनाने के लिए स्मार्ट सिटी मिशन की ओर से अब रियल टाइम मॉनिटरिंग की जा रही है और इसके आधार पर प्रतिदिन रैंकिंग तय हो रही है। इस रियल टाइम रैंकिंग के मुताबिक मंगलवार को भी देश के 100 स्मार्ट सिटीज में पटना की रैंकिंग 71वीं रही। राज्य के अन्य तीन शहरों की रैंकिंग तो और भी नीचे है। पिछले दो साल में राज्य के चारों शहरों की रैंकिंग 50 से ऊपर नहीं रही है। रैंकिंग इसलिए भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि इसी आधार पर केंद्र सरकार की ओर से राशि मुहैया कराई जाती है। पटना काे स्मार्ट सिटी मिशन में देश के अन्य शहरों की तुलना में बाद में शामिल किया गया है। इसके चलते भी प्रोजेक्ट को पूरा करने में देरी हुई है। लेकिन अब सभी प्रोजेक्ट को तेजी से पूरा करने की दिशा में काम हो रहा है, ताकि पटना को नंबर-1 की रैंकिंग में लाया जा सके। इसी सोच के साथ स्मार्ट सिटी मिशन के तहत कार्य किए जा रहे हैं। -मो. शमशाद, सीईओ, पटना स्मार्ट सिटी

पटना में स्मार्ट सिटी की कई परियोजनाओं का उद्घाटन किया जा चुका है और लोगों को इसकी सुविधा मिलनी शुरू भी हो गई है। इसमें अदालतगंज तालाब का कायाकल्प, एसएसपी कार्यालय के परिसर में एकीकृत कमांड और नियंत्रण केंद्र का निर्माण और जन सेवा केंद्र की स्थापना शामिल है। स्मार्ट बस स्टैंड कई जगह बनकर तैयार है। इसके अलावा, मंदिरी नाले के पुनर्विकास, स्टेशन सब-वे, वीरचंद पटेल पथ और बेली रोड को जोड़ने वाले एक लिंक रोड के निर्माण, एसके मेमोरियल हॉल के पुनर्विकास का काम भी शुरू हो गया है। पटना स्मार्ट सिटी ने विभिन्न प्रोजेक्ट को पूरा करने में 930 करोड़ रुपए का फंड खर्च किया है। अफसरों का कहना है कि काम को तेजी से पूरा किया जा रहा है, ताकि राजधानी के लोगों को सुविधा मुहैया कराई जा सके।
प्रोजेक्ट के हिसाब से अवाॅर्ड
34 चयनित शहरों के अलावा भी कई स्मार्ट सिटीज को अवार्ड प्रदान किया जाएगा। इसके लिए स्मार्ट सिटी के सीईओ और उनकी टीम को आमंत्रित किया गया है। पटना स्मार्ट सिटी के कुछ अधिकारी भी सूरत में हाेने वाले अवार्ड सेरेमनी में शामिल होने जाएंगे। स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत शहर में किए गए कार्यों को वहां दिखाया जाएगा और उसके आधार पर ही कैटेगरी अवार्ड से नवाजा जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.