भाजपा की सूची में टकसाली पिछड़े

फीचर राजनीति

अजय भट्टाचार्य
पंजाब
में भाजपा ने अपनी दूसरी सूची में भी सिख चेहरों को पूरी तरजीह दी है। पार्टी ने दूसरी सूची में 14 सिख चेहरों को आगे लाकर मैदान में उतारा है। पार्टी की तरफ से सिख चेहरों को तरजीह दी जा रही है। अपने कई टकसाली नेताओं को भाजपा ने पीछे कर सिख चेहरों को आगे किया है। जालंधर कैंट में भाजपा ने अपने टकसाली नेता अमित तनेजा की टिकट काटकर उनके स्थान पर अकाली दल से आए सर्बजीत सिंह मक्कड़ को टिकट दिया गया है। हालांकि यह सीट तनेजा को देने की मांग उठ रही थी लेकिन पार्टी ने मक्कड़ के साथ वादा कर रखा था, लिहाजा पार्टी ने कैंट सीट से मक्कड़ को उतारा है।
इस बार दो दिग्गजों पर भी दांव खेला गया है। जहां राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के चेयरमैन विजय सांपला को फगवाड़ा विधानसभा में उतारा है, वहीं रूपनगर से राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन इकबाल सिंह ललपुरा को। सांपला लोकसभा चुनाव जीतकर केंद्रीय मंत्री रह चुके हैं और वर्तमान में वह राष्ट्रीय अनुसूचित जाति के चेयरमैन थे। दोआबा में 42 फीसदी अनुसूचित जाति वोट बैंक हैं और इसमें रविदासिया समाज का बहुसंख्यक वोट है। सांपला को मैदान में उतारकर भाजपा ने दोआबा में दांव खेला है। दोआबा में दो ही बड़े दलित चेहरे हैं, जिसमें एक सोमप्रकाश कैंथ केंद्रीय राज्यमंत्री हैं, जबकि दूसरे विजय सांपला राष्ट्रीय अनुसूचित जाति के चेयरमैन। सोमप्रकाश कैंथ ने 2017 का विधानसभा चुनाव फगवाड़ा से जीता था, लेकिन पार्टी ने उनका इस्तीफा दिलाकर होशियारपुर से लोकसभा चुनाव लड़ाया था। पार्टी अब सोमप्रकाश को दोबारा विधायक का चुनाव लड़वाना नहीं चाह रही थी, लिहाजा सांपला ही उनके पास दूसरे कद्दावर नेता थे। सांपला के बेटे साहिल सांपला भी शाम चौरासी से टिकट मांग रहे थे, लेकिन शाम चौरासी सीट ढींडसा के खाते में डाल दी गई थी, उस दिन ही सब फाइनल हो गया था कि साहिल के स्थान पर उनके पिता विजय सांपला को फगवाड़ा से मैदान में उतारा जा सकता है। दूसरी तरफ सिख मिशनरी व पूर्व एसएसपी इकबाल सिंह ललपुरा को भी रूपनगर से भाजपा ने टिकट दिया है। ललपुरा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के बेहद करीबी हैं और हाल ही में उनको राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग का चेयरमैन नियुक्त किया गया था। इकबाल सिंह ललपुरा भी दिग्गज नेताओं में शुमार हैं। जालंधर में भाजपा ने टकसाली तनेजा का टिकट काट, अकाली दल से आए मक्कड़ को मैदान में उतारा है।
पंजाब में कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, अकाली दल-बसपा और त्रिदलीय गठबंधन के अलावा किसान नेता बलबीर सिंह राजेवाल की पार्टी भी चुनावी समर में उतरी है जिससे चुनावी मुकाबला बेहद दिलचस्प हो गया है। पंजाब में 20 फरवरी को सभी 117 सीटों पर वोट डाले जाएंगे और 10 मार्च को नतीजे आएंगे।
(लेखक देश के जाने माने पत्रकार और राजनीतिक विश्लेषक हैं।)

Leave a Reply

Your email address will not be published.